Corona Virus: पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए की बात, जानें क्या कहा…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने लॉकडाउन (Lockdown) के बीच कोरोनावायरस (Corona Virus) खतरे को लेकर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की।

PM Narendra Modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने लॉकडाउन (Lockdown) के बीच कोरोना वायरस (Corona Virus) के खतरे को लेकर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। इस बैठक में, पीएम मोदी के साथ गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत अन्य प्रमुख लोग मौजूद रहे।

PM Narendra Modi
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस को लेकर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की।

प्रधानमंत्री (PM Narendra Modi) ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि कोविड-19 (COVID-19) के मरीजों के लिए अलग, विशेष अस्पतालों की जरुरत है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अगले कुछ सप्ताह तक सारा ध्यान जांच करने, संक्रमित लोगों का पता लगाने, उन्हें घरों, पृथक केन्द्रों या अस्पतालों में अलग रखने पर होना चाहिए। उन्होंने कहा, “लॉकडाउन समाप्त होने के बाद जनजीवन को धीरे-धीरे सामान्य बनाने के लिये साझी रणनीति तैयार करना महत्वपूर्ण है।”

तब्लीगी जमात प्रमुख ने जारी किया ऑडियो, जानें कौन हैं मौलाना साद…

प्रधानमंत्री (PM Narendra Modi) ने इस वीडियो कान्फ्रेसिंग में मुख्यमंत्रियों से कहा कि लॉकडाउन (बंद) समाप्त होने के बाद आबादी के फिर से घर से बाहर निकलने को ध्यान में रखते हुए राज्यों और केंद्र को एक रणनीति तैयार करनी चाहिए। पीआईबी (PIB) की विज्ञप्ति के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह वास्तव में सराहनीय है कि सभी राज्यों ने एक साथ और एक टीम के रूप में कोरोना वायरस (Corona Virus) के प्रसार को रोकने के लिए काम किया है।

पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने कोरोना वायरस (Corona Virus) को फैलने से रोकने के लिए पिछले हफ्ते देशभर में लॉकडाउन की घोषणा करते हुए लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने को कहा था। कोविड-19 (COVID-19) के प्रकोप और इससे जुड़े मुद्दों के सामने आने के बीच पिछले दो सप्ताह से कम समय में प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्रियों की यह दूसरी बातचीत है। इससे पहले प्रधानमंत्री ने 20 मार्च को राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की थी।

यह भी पढ़ें