नक्सलवाद पर CM का जवाब, नक्सली कोई ‘पवित्र आत्मा’ नहीं जो छोड़ दें

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने पुलिस कार्रवाई में चार नक्सलियों के मारे जाने की घटना का बचाव करते हुए कहा कि नक्सली कोई ‘‘पवित्र आत्मा’ और ‘‘मेमने’ तो हैं नहीं।

Pinarayi Vijayan

छत्तीसगढ़ और बिहार जैसे राज्यों में नक्सलियों द्वारा सुरक्षाकर्मियों और किसानों की हत्या किये जाए का हवाला देते हुए उन्होंने जानना चाहा कि क्या (विपक्षी) संयुक्त लोकतांत्रिक मोर्चा (यूडीएफ) केरल में भी ऐसी ही स्थिति चाहता है। नक्सलियों की हत्या और सीपीआई के नक्सली समर्थक छात्र कार्यकर्ताओं की गैर कानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम के तहत गिरफ्तारी पर राज्य विधानसभा में चर्चा के लिए कांग्रेस द्वारा दिए गए स्थगन प्रस्ताव के नोटिस का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) सरकार इस कानून का दुरुपयोग नहीं होने देगी।

जम्मू-कश्मीर: श्रीनगर (Shrinagar) में बड़ा आतंकी हमला, एक की मौत, 25 घायल

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने पिछले हफ्ते पलक्कड़ जिले के अट्टापड्डी में हुए पुलिस मुठभेड़ का जिक्र करते हुए कहा, ‘नक्सली आत्मसमर्पण करने तो आये नहीं थे। उन्होंने पुलिस पर गोलियां चलायी थीं।’ इस पुलिस मुठभेड़ में चार नक्सली मारे गये थे। विजयन (Pinarayi Vijayan) ने यूडीएफ पर नक्सलियों का ‘महिमामंडन’ करने का आरोप लगाते हुए कहा कि यह स्तब्ध कर देने वाली बात है।

नक्सली समर्थक पर्चों का कथित तौर पर वितरण करने को लेकर गिरफ्तार किए गए और यूएपीए के तहत आरोपी बनाये गये दो छात्र कार्यकर्ताओं के मामले को लेकर विजयन (Pinarayi Vijayan) के इस्तीफे की मांग करने के एक दिन बाद विपक्षी मोर्चा ने विधानसभा में स्थगन प्रस्ताव देकर दबाव बढाने का प्रयास किया। इसका विरोध करते हुए विजयन (Pinarayi Vijayan) ने कहा, ‘‘इन चरमपंथियों ने छत्तीसगढ़, ओडिशा और बिहार समेत कई राज्यों में कई सीआरपीएफ कर्मियों, पुलिसकर्मियों और किसानों की हत्या की है और नक्सलियों को यूडीएफ ‘‘पवित्र आत्मा’ की तरह पेश कर रहा है। क्या आप केरल में यही स्थिति चाहते हैं?’

पढ़ें: जमुई (Jamui) से कुख्यात नक्सली कमांडर गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here