पाकिस्तान: तहरीक ए तालिबान ने दी चेतावनी, कहा- आतंकी और चरमपंथी जैसे शब्दों का मीडिया ना करे इस्तेमाल

प्रतिबंधित तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने पाकिस्तानी मीडिया और पत्रकारों को चेतावनी देते हुए कहा है कि उन्हें ‘आतंकवादी संगठन’ ना कहें।

Tehreek e Taliban

तहरीक ए तालिबान (Tehreek e Taliban) के प्रवक्ता मोहम्मद खुरासानी ने सोमवार को सोशल मीडिया पर बयान जारी किया।

पेशावर: अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद से दुनियाभर के आतंकियों के हौसले बढ़े हुए हैं। खबर मिली है कि हालही में प्रतिबंधित तहरीक-ए-तालिबान (Tehreek e Taliban) पाकिस्तान (टीटीपी) ने पाकिस्तानी मीडिया और पत्रकारों को चेतावनी देते हुए कहा है कि उन्हें ‘आतंकवादी संगठन’ ना कहें, और ऐसा करने पर मीडिया को वह अपना शत्रु मानेंगे।

तहरीक ए तालिबान (Tehreek e Taliban) के प्रवक्ता मोहम्मद खुरासानी ने सोमवार को सोशल मीडिया पर बयान जारी किया। उन्होंने कहा कि उनका संगठन मीडिया की उन खबरों पर नजर रख रहा है, जिसमें टीटीपी के लिए ‘आतंकवादी और चरमपंथी’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया जाता है।

Coronavirus: देश में आए कोरोना के 37,875 नए केस, दिल्ली में एक मरीज की मौत

पाकिस्तानी अखबार ‘डॉन’ के मुताबिक, टीटीपी ने अपने ऑनलाइन बयान में कहा है कि इस तरह के विशेषणों का इस्तेमाल मीडिया और पत्रकारों की पक्षपातपूर्ण भूमिका को दर्शाता है। ऐसा करते रहने से मीडिया के लोग अपने लिए दुश्मन पैदा कर लेंगे।

बता दें कि पाकिस्तानी तालिबान का गठन साल 2007 में हुआ था और सरकार ने अगस्त, 2008 में इसे बैन कर दिया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें