चीन से जारी तनाव के बीच पाकिस्तान भी बौखलाया, भारत के खिलाफ चली ये नई चाल

पाकिस्तान (Pakistan) के लिए खोबरागड़े का नाम जून में प्रस्तावित किया गया था। जून में ही भारत ने पाकिस्तान के साथ अपने राजनयिक संबंधों में कटौती की थी।

Pakistan

इमरान खान (फाइल फोटो)

पाकिस्तान (Pakistan) अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। खोबरागड़े को वीजा ना देकर पाकिस्तान बदले की कार्रवाई कर रहा है। इसका एक कारण यह भी है पाकिस्तान हर प्लेटफार्म पर भारत से मात खा रहा है।

भारत-चीन तनाव के बीच पाकिस्तान (Pakistan) भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। अब पाकिस्तान ने भारत के खिलाफ एक नई चाल चली है। पाकिस्तान ने भारतीय डिप्लोमेट जयंत खोबरागड़े को वीजा देने से इनकार कर दिया है। पाकिस्तान ने चीन की शह पर ऐसा किया है।

बता दें कि भारत ने जयंत को इस्लामाबाद में अपने मिशन का चीफ नियुक्त किया था। ऐसे में पाकिस्तान का वीजा खारिज करने का सीधा मतलब यह है कि वो जयंत खोबरागड़े की नियुक्ति को खारिज कर रहा है।

खोबरागड़े का नाम जून में प्रस्तावित किया गया था। जून में ही भारत ने पाकिस्तान के साथ अपने राजनयिक संबंधों में कटौती की थी और अपने मिशन के स्टाफ में 50 फीसदी की कटौती की थी।

ये भी पढ़ें- Jammu-Kashmir: राजौरी से लश्कर के तीन आतंकी गिरफ्तार, भारी मात्रा में गोला बारूद बरामद

कहा जा रहा है कि खोबरागड़े को वीजा ना देकर पाकिस्तान बदले की कार्रवाई कर रहा है। इसका एक कारण यह भी है कि पाकिस्तान हर प्लेटफार्म पर भारत से मात खा रहा है। फिर चाहें वह कश्मीर का मुद्दा हो या फिर आतंकवाद पर अपने बचाव का। लगातार मुंह की खाने की वजह से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है।

हालांकि खोबरागड़े को वीजा न देने के लिए पाकिस्तान ने एक अलग ही राग अलापा है। पाकिस्तान को खोबरागड़े की वरिष्ठता से दिक्कत है। उसका मानना है कि इस मिशन के लिए खोबरागड़े बहुत वरिष्ठ हैं।

जानकारों का मानना है कि इस लेवल पर किसी अधिकारी की नियुक्ति को खारिज करना बहुत कम देखा गया है। भारत किसी को भी अपना अधिकारी नियुक्त करे, उससे पाकिस्तान को कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत भी अब इसी तरह की कार्यवाही कर सकता है।

खोबरागड़े पहले भी पाकिस्तान में सेवाएं दे चुके हैं। वह 1995 बैच के भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी हैं। इस समय वह परमाणु ऊर्जा विभाग में ज्वाइंट सेक्रेटरी हैं।

ये भी देखें- 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें