पाकिस्तान की कायराना हरकत लगातार जारी, सरहद पर पाक रेंजर्स ने फिर की फायरिंग

आरएसपुरा के एक अग्रिम गांव कोरोटाना के युवा किसान रोहित चौधरी का कहना है कि पाकिस्तान (Pakistan) की कथनी और करनी में हमेशा से विरोधाभास रहा है।

Pakistan Army done ceasefire violations

यहां सरहद पर अमन चैन बनाए रखने को लेकर पाकिस्तान (Pakistan) भले जो भी वायदे करे लेकिन वह अपनी नापाक हरकतों से बाज आने को तैयार नहीं है। यह बात सोमवार सुबह भारत-पाक सीमा के रामगढ़ सेक्टर में दोबारा साबित हुई।

कोरोना के खिलाफ जंग में कूदी भारतीय सेनाएं, ‘को-जीत’ अभियान के तहत एक साथ काम करेंगी तीनों सेनाएं

सोमवार को जब सीमा सुरक्षा बल के जवान सरहद पर पेट्रोलिंग कर रहे थे कि उसी दौरान सुबह छह बजे पाकिस्तान (Pakistan) की ओर से पाकिस्तानी रेंजर्स ने बिना उकसावे की गोलाबारी शुरू कर दी। गोलाबारी में किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ लेकिन जब बीएसएफ (BSF) के जवानों ने मुंहतोड़ जवाबी कार्रवाई की तो सरहद पार से गोलाबारी बंद हुई।

सैन्य सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान रेंजर्स की इस फायरिंग के बाद से बीएसएफ (BSF) के जवान और ज्यादा अलर्ट हो गए हैं। आजकल सरहद से सटे भारतीय क्षेत्र में गेहूं की फसल पक कर तैयार है। हालांकि गत दिनों से सरहद के इन इलाकों में कई जगह गेहूं की फसल के जलने की भी खबरें लगातार बनी हुई है। इसे लेकर यहां के सरहदी किसान पहले से ही दुश्वारियों का सामना कर रहे हैं और अब पाकिस्तान रेंजर्स की आज की इस फायरिंग ने उनकी चिंताएं बढ़ा दी हैं ।

गौरतलब है कि गत फरवरी माह की 25-26 की रात्रि से भारत और पाकिस्तान (Pakistan) के डीजीएमओ (डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन) के बीच हुई बातचीत के बाद फिर से संघर्ष विराम लागू किए जाने का फैसला लिया गया था। इसके बाद से लगातार सरहद पर एक भी गोली की आवाज नहीं सुनाई दी। सोमवार सुबह फिर जिस प्रकार पाकिस्तानी रेंजर्स ने फायरिंग कर नापाक हरकत दिखाई उसके बाद से भारतीय सुरक्षा बल और ज्यादा चौकस हो गए हैं लेकिन सरहद से सटे इलाकों में रहने वाले लोगों खासकर किसानों के मन में फिर से खौफ पैदा हो गया है।

भारत-पाक सीमा के आरएसपुरा के एक अग्रिम गांव कोरोटाना के युवा किसान रोहित चौधरी का कहना है कि पाकिस्तान (Pakistan) की कथनी और करनी में हमेशा से विरोधाभास रहा है। इसलिए जरूरी है कि हमारे सुरक्षा बल पहले से ज्यादा चौकस रहें क्योंकि मौजूदा समय में सरहदी किसान अपनी गेहूं की फसल को संभालने में लगे है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें