Nisarga: ‘अम्फान’ के बाद देश पर ‘निसर्ग’ का खतरा, मुंबई में रेड अलर्ट जारी

ओडिशा (Odisha) और पश्चिम बंगाल (West Bengal) में पिछले दिनों अम्फान (Amphan) ने तबाही मचाई और एक पखवाड़े के अंदर दूसरा चक्रवात (Cyclone) भारत को प्रभावित करने जा रहा है। अब मुंबई शहर पर निसर्ग (Nisarga) चक्रवाती तूफान का खतरा मंडरा रहा है।

Nisarga

ओडिशा (Odisha) और पश्चिम बंगाल (West Bengal) में पिछले दिनों अम्फान (Amphan) ने तबाही मचाई और एक पखवाड़े के अंदर दूसरा चक्रवात (Cyclone) भारत को प्रभावित करने जा रहा है। अब मुंबई शहर पर निसर्ग (Nisarga) चक्रवाती तूफान का खतरा मंडरा रहा है। तूफान की वजह से भारी बारिश और तूफानी हवाएं चलने का अनुमान है।

एनडीआरएफ (NDRF), नेवी समेत तमाम रेस्क्यू एजेंसियां मुस्तैद हैं। इस बीच मौसम विभाग (IMD) ने चेतावनी दी है कि अगले 12 घंटों के दौरान निसर्ग (Nisarga) विकराल रूप ले सकता है। मुंबई (Mumbai) में रेड अलर्ट (Red Alert) जारी कर दिया गया है। अरब सागर (Arabian Sea) में एक चक्रवात के हालात बन रहे हैं यानी 15 दिनों के भीतर अम्फान के बाद भारत (India) को एक और चक्रवाती तूफान (Cyclonic Storm) से जूझना होगा।

Jammu-Kashmir: त्राल में एनकाउंटर, सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को किया ढेर

मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक, संभावना है कि अगले 12 घंटों के दौरान चक्रवाती तूफान विकराल रूप धारण कर सकता है। आईएमडी के मुताबिक चक्रवात ईस्ट-सेंट्रल अरब सागर के ऊपर 15 डिग्री उत्तर, पणजी (गोवा) के पश्चिम, दक्षिण-पश्चिम में 280 किलोमीटर और गुजरात में दक्षिण-दक्षिण पश्चिम सूरत से 490 किमी दूर है। निसर्ग (Nisarga) तूफान का असर दिखना शुरू हो गया है।

महाराष्ट्र और गुजरात तटों पर अलर्ट जारी कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि 110 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार के साथ यह तूफान तटों से टकराएगा। मुंबई महानगरपालिका ने चौपाटी पर खतरे के निशान के तौर पर लाल झंडे के निशान लगाए हैं। मुंबई समेत ठाणे, पालघर और रायगढ़ के तटीय इलाकों में निसर्ग तूफान के चलते 3 जून को बेहद भारी बारिश की चेतावनी देते हुए भारतीय मौसम विभाग ने बुधवार (3 जून) के लिए रेड अलर्ट घोषित कर दिया है।

अमेरिका में भयंकर आगजनी और उपद्रव, हिंसा रोकने के लिए राष्ट्रपति ट्रंप ने सेना उतारने की दी धमकी

इसके अलावा, केंद्रीय जल आयोग ने सिंधदुर्ग, रत्नागिरी, पालघर, ठाणे, मुंबई और नासिक में भारी बाढ़ की आशंका जताई है। यह भी कहा गया है कि उत्तरी महाराष्ट्र और दक्षिणी गुजरात के तटीय इलाकों में तेज और ऊंची लहरें उठ सकती हैं। निसर्ग (Nisarga) की वजह से मुंबई में बारिश का सिलसिला भी शुरू हो गया है। कई इलाकों में बूंदाबांदी हो रही है।

आईएमडी (IMD) ने कहा है कि डिप्रेशन के चक्रवात में तब्दील होने के बाद मुंबई और पश्चिमी महाराष्ट्र के तटीय इलाके में रेड अलर्ट रहेगा। निसर्ग (Nisarga) के खतरे को देखते हुए समंदर की हर हलचल पर नजर रखी जा रही है। इस बीच पालघर में बड़ा रेस्क्यू प्लान बनाया गया है। अभी 100 नावें समुद्र में हैं। यहां एनडीआरएफ की टीमों को तैनात किया गया है। हालात का सर्वे करने के लिए एनडीआरएफ (NDRF) के जवान तटीय इलाकों पर निगरानी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें