पुलवामा हमले में NIA ने दायर की 13,500 पन्ने की चार्जशीट, ये हैं मुख्य आरोपी

पुलवामा हमले (Pulwama Attack) में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (National Investigation Agency)ने चार्जशीट दायर कर दी है। यह चार्जशीट 13,500 पन्नों की है। इस चार्जशीट में एनआईए (NIA) ने 13 लोगों को आरोपी बनाया है।

NIA

फाइल फोटो।

पुलवामा हमले (Pulwama Attack) में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (National Investigation Agency) ने चार्जशीट दायर कर दी है। यह चार्जशीट 13,500 पन्नों की है। इस चार्जशीट में एनआईए (NIA) ने 13 लोगों को आरोपी बनाया है। इनमें जैश-ए मोहम्मद का सरगना मौलाना मसूद अजहर भी शामिल है। जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को एनआईए ने अपनी चार्जशीट में सबसे पहला आरोपी बनाया है।

मसूद के अलावा उसके भाई अब्दुल राउफ और मौलाना अम्मार को भी आरोपी बनाया गया है। मौलाना अम्मार बालाकोट में जैश के आतंकियों को ट्रेनिंग देता है। NIA ने अपनी जांच में पाया है कि हमले में इस्तेमाल किए गए 20 किलो आरडीएक्स को पाकिस्तान से लाया गया था।

अमीर बनने की चाहत में ISIS का आतंकी बना बलरामपुर का अबु यूसुफ, हैरान है पूरा गांव

जानकारी के मुताबिक, एनआईए की चार्जशीट में कहा गया है कि आरडीएक्स समेत अन्य विस्फोटक आतंकी पीठ पर पाकिस्तान से लाद कर लाए। इसके साथ ही बताया गया एक अन्य आरोपी इकबाल रादर ने इस हमले के पहले उमर फारूक नाम के एक आतंकी को रात के अंधेरे में सीमा पार कराकर घाटी में लाया था।

NIA को इस बात के वीडियो सबूत भी मिले हैं, जिनमें अमावस्या यानी अंधेरी रात में घुसपैठ करने की रणनीति का जिक्र किया गया है। जांच एजेंसी को यह वीडियो उमर फारुक के फोन में मिला है। इस फोन के जरिए एजेंसी को पूरे प्लान के बारे में पता चला है कि जिसके जरिए आतंकी भारतीय सीमा में आए।

वैश्विक स्तर पर पाकिस्तान का साथ छोड़ रहे देश, जर्मनी ने मदद से इनकार करके दिया बड़ा झटका

सूत्रों के अनुसार, चार्जशीट में कहा गया है कि आतंकियों ने हमले में इस्तेमाल किए गए अमोनियम नाइट्रेट और नाइट्रो ग्लिसरीन सरीखे पदार्थ स्थानीय स्तर पर ही इकट्ठा किए थे। यह भी कहा गया है कि आतंकियों ने जम्मू-कश्मीर में इन विस्फोटकों को ऑनलाइन भी खरीदा था। NIA जांच में यह बात सामने आई है कि लेथपोरा में फर्नीचर की दुकान करने वाले शख्स ने आतंकी डार को अर्धसैनिक बलों के काफिले की पूरी जानकारी दी जिसके बाद इस हमले को अंजाम दिया गया।

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी, 2019 को सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला किया गया था। एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक से भरी कार सीआरपीएफ के काफिले से टकरा दी थी। इस धमाके में 40 जवान शहीद हो गए थे और कई घायल हो गए।

ये भी देखें-

एनआईए (NIA) इस मामले की जांच कर रही थी। इस हमले को अंजाम देने वाला आदिल अहमद डार समेत इसमें इस्तेमाल हुई IED को बनाने वाला कामरान और सीमा पार से आया आतंकी उमर फारुक एनकाउंटर में जा चुके हैं। इस मामले में अब तक सात लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें