नक्सलियों की ‘गंदी’ साजिश, महिलाओं के जरिए थानों में जवानों के खिलाफ झूठे केस दर्ज करवाने की प्लानिंग

लगता है नक्सली (Naxals) अब मान चुके हैं कि वो सुरक्षा बलों के नक्सल सफाई अभियान के आगे टिक नहीं पाएंगे। कायर नक्सलियों ने अब सुरक्षा बलों को बदनाम करने की प्लानिंग की है।

Naxals

सांकेतिक तस्वीर।

लगता है नक्सली (Naxals) अब मान चुके हैं कि वो सुरक्षा बलों के नक्सल सफाई अभियान के आगे टिक नहीं पाएंगे। कायर नक्सलियों ने अब सुरक्षा बलों को बदनाम करने की प्लानिंग की है। जी हां, महिलाओं के जरिए सुरक्षा बलों को बदनाम करने की नक्सलियों की बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है।

‘अमर उजाला’ ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि नक्सली (Naxalites), विभिन्न ग्रामीण इलाकों में लोगों को डरा धमका कर सुरक्षा बलों और लोकल पुलिस के खिलाफ ‘महिलाओं का शील भंग’ होने जैसे झूठे आरोप लगाने का दबाव डाल रहे हैं। इस बाबत सुरक्षा बलों को सचेत कर दिया गया है कि वे नियमित गश्त या किसी विशेष ऑपरेशन के दौरान इस बात को लेकर खास सतर्कता बरतें।

नक्सली की इस घिनौनी साजिश के संबंध में जो जानकारी निकल कर सामने आ रही है उससे पता चला है कि नक्सली अपने समर्थकों को इस चाल में शामिल कर रहे हैं। जिला पुलिस, सीआरपीएफ, एसटीएफ इत्यादि पर कब कौन सा आरोप लगाना है नक्सली (Naxals)  बाकायदा इसके बारे में अपने समर्थकों को समझा भी रहे हैं।

महाराज प्रमाणिक दस्ते के दो हार्डकोर नक्सली धराए, हत्या सहित आधा दर्जन मामलों में पुलिस कर रही थी तलाश

इस बात की आशंका जताई जा रही है कि नक्सल प्रभावित इलाकों के थानों में नक्सली कुछ महिलाओं से जबरन सुरक्षा बल के जवानों के खिलाफ रिपोर्ट लिखवाने की कोशिश कर सकते हैं। दरअसल, इसके पीछे नक्सलियों (Naxalites) की मंशा यह है कि किसी भी तरह गांव में सुरक्षा बलों की छवि को खराब किया जाए।

पिछले कुछ सालों में नक्सली इलाकों (Naxal Area) में सुरक्षा बलों ने ग्रामीणों के दिलों में अपनी खास जगह बनाई है। यह जगह सिर्फ नक्सलियों का सफाया कर नहीं बनाया गया है बल्कि सुरक्षा बलों ने गरीब गांव वालों की हर तरह से मदद भी की है। गांव वालों का विश्वास जीत कर ही सुरक्षा बल के जवानों ने घोर नक्सल प्रभावित इलाकों में नक्सलियों की कमर तोड़ने का काम किया है।

गांव वालों के बीच कई तरह के कार्यक्रम चला कर सुरक्षा बलों के जवानों ने गांव में शिक्षा और विकास की नई अलख जगाई है। इस बात ने नक्सलियों (Naxals) को परेशान कर रखा है और यहीं वजह है कि वो गांव वालों के बीच सुरक्षा बलों की छवि को बदनाम करने की घोर साजिश रच रहे हैं। फिलहाल सुरक्षा बलों को नक्सलियों की इस साजिश के मद्देनजर ज्यादा सावधानी बरतने के लिए कहा गया है।

यह भी पढ़ें