Lok Sabha Election : हिंसा की फिराक में जुटे नक्सली गिरफ्तार

छत्तीसगढ़ के धमतरी पुलिस ने कुछ नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि ये नक्सली लोकसभा चुनाव के दौरान जिले में किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। पकड़े गए नक्सलियों में पांच लाख रूपए का इनामी नक्सली अजीत मोडियाम और उसका साथी रामसू कुंजाम शामिल है।

Lok Sabha Election

Lok Sabha Election: लोकतंत्र के दुश्मन नक्सली कभी भी नहीं चाहते कि चुनावी प्रक्रिया शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हो सके। पिछले कुछ सालों का अगर आप जायज़ा लेंगे तो पाएंगे कि चुनाव के वक्त नक्सली संगठन हमेशा हिंसा को अंजाम देने की फिराक़ में लगे रहते हैं। कभी ये नक्सली गावों में जाकर लोगों को डराते धमकाते हैं, मारते पीटते हैं, लोगों से वोट न डालने के लिए कहते हैं, तो कभी हिंसा और खून-खराबा करके लोगों को वोटिंग करने से रोकते हैं।

छत्तीसगढ़ के धमतरी पुलिस ने दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि ये नक्सली लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) के दौरान जिले में किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे। पकड़े गए नक्सलियों में से एक है पांच लाख रूपए का इनामी नक्सली अजीत मोडियाम और दूसरा है एक लाख रुपए का इनामी नक्सली रामसू कुंजाम। अजीत बीजापुर के पदेड़ा चेरपाल गांव का रहने वाला है और रामसू कुंजाम सुकमा के बोडूम किस्टाराम गांव का रहने वाला है।

गिरफ्तार नक्सलियों के पास से एक भरमार बंदूक, तीन टिफिन बम, बैनर-पोस्टर बरामद हुआ है। बरामद किए गए बैनर पोस्टर में लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) के बहिष्कार को लेकर घोषणा थी। पोस्टर के माध्यम से चुनाव में भाग नहीं लिए जाने का आह्वान किया गया था। गिरफ्तार नक्सलियों पर कई संगीन मुकदमे दर्ज हैं। नक्सली अजीत मडियाम पर धमतरी एवं अन्य जिलों में कुल 17 अपराधिक मामले दर्ज हैं। वहीं, रामसू कुंजाम पर 5 मामलों में केस दर्ज हैं।

यह भी पढ़ें: सुरक्षाबलों ने फेरा नक्सलियों के मंसूबों पर पानी, लोकसभा चुनाव के दौरान हमले की कर रहे थे साजिश

ज्ञात रहे कि पिछले दिनों नक्सलियों ने बैनर पोस्टर के माध्यम से लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) का बहिष्कार करने की घोषणा की थी। जिसके बाद पुलिस हरकत में आ गई थी। जिला पुलिस ने नक्सल प्रभावित क्षेत्र में सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया था। 31 मार्च को पुलिस की स्पेशल टीम खल्लारी के जंगलों में सर्चिंग कर रही थी, तभी उन्हें आमझार एवं खल्लारी के बीच जंगल में दो काले रंग की जेरेकिन के डिब्बे मिले।

पुलिस को नक्सलियों की उपस्थिति की भनक लग गई। इसके बाद पुलिस की स्पेशल टीम ने अलग-अलग पार्टी बनाकर जंगल को चारों तरफ से घेर लिया और नक्सलियों की तलाशी शुरू कर दी। तलाशी के दौरान ही जंगल से दो व्यक्ति भागते दिखे। पुलिस ने तत्काल उनका पीछा करके उन्हें पकड़ लिया। पुलिस को इनकी काफी वक्त से तलाश थी। इनकी गिरफ्तारी प्रशासन के लिए एक बड़ी सफलता है।

यह भी पढ़ें: भारत बना दुनिया का चौथा अंतरिक्ष महाशक्ति

यह भी पढ़ें