बिहार के गया से हार्डकोर नक्सली गिरफ्तार, कारतूस की चलती-फिरती फैक्ट्री था

चंदौती थाना क्षेत्र के इंग्लिश गांव से हार्डकोर नक्सली शकर यादव को पकड़ा गया। उस वक्त शंकर अपने घर पर ही था। पुलिस के अनुसार, शंकर यादव नक्सली जयराम यादव के समूह का सदस्य है।

naxal, naxal arrested, naxal arrested in gaya bihar, bihar naxal, bihar police, SSB, sirf sach, sirfsach.in

बिहार के गया जिले से भाकपा माओवादी के एक हार्डकोर नक्सली को एसएसबी और कोंच थाना की पुलिस ने संयुक्त छापेमारी में गिरफ्तार कर लिया।

बिहार के गया जिले से भाकपा माओवादी के एक हार्डकोर नक्सली को एसएसबी और कोंच थाना की पुलिस ने संयुक्त छापेमारी में गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार नक्सली का नाम शंकर यादव है। चार हजार से अधिक चक्र गोलियां रखने के मामले में पुलिस को उसकी तलाश थी। सशस्त्र सीमा बल 29 वाहिनी के उप कमांडेंट राम कुमार के नेतृत्व में यह छापेमारी की गई। इस कार्रवाई में उनके साथ कोंच थाना के कंपनी इंचार्ज इंस्पेक्टर विकाश चंद्र घोष, थानाध्यक्ष अभिषेक कुमार भी थे। थानाध्यक्ष के मुताबिक, चंदौती थाना क्षेत्र के इंग्लिश गांव से हार्डकोर नक्सली शकर यादव को पकड़ा गया। उस वक्त शंकर अपने घर पर ही था।

पुलिस के अनुसार, शंकर यादव नक्सली जयराम यादव के समूह का सदस्य है। कोंच थाना के श्रीगाव में 4200 चक्र गोलियां रखने के लिए उसपर आपराधिक मामला दर्ज था। जिसमें पिछले साल से ही पुलिस को उसकी तलाश थी। इससे पहले, नक्सल प्रभावित गया जिले से ही एक हार्डकोर नक्सली को उसके दो सहयोगियों के साथ 6 जून को एनएच दो पर डोभी मोड़ से गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार किया गया हार्डकोर नक्सली रूपेश कुमार सिंह बिहार के भागलपुर जिला के शाहकुंड थाना क्षेत्र के सरौनी गांव का रहनेवाला है। वह नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के क्राइम ब्यूरो टेक्निकल के स्पेशल एरिया कमेटी सदस्य है।

पढ़ें: यूं पुलिस की गिरफ्त में आया खूंखार नक्सली, बहाया है दर्जन से ज्यादा पुलिसवालों का खून

जानकारी के अनुसार, वह डुमरिया थाना क्षेत्र के छकरबंधा में नक्सलियों को विस्फोटक की सप्लाई करने जा रहा था। इस नक्सली के साथ 4 जून को कार सहित लापता हुए रामगढ़ के अधिवक्ता मिथिलेश कुमार सिंह को भी गया पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसके अलावा कार चालक मो. कलाम भी पुलिस के हत्थे चढ़ गया है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, रूपेश के साथ गिरफ्तार सहयोगी मिथिलेश कुमार सिंह और चालक मोहम्मद कलाम दोनों रामगढ़ (झारखंड) के रहने वाले हैं। मौके से कार में रखा भारी मात्रा में जिलेटिन व नक्सली साहित्य भी बरामद हुआ है। गौरतलब है कि अधिवक्ता सहित तीन लोगों के लापता होने के मामले में कार चालक मोहम्मद कलाम के भाई ने रामगढ़ थाना में प्राथमिकी दर्ज करवाई थी।

इधर, गया पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि हजारीबाग की ओर से नक्सली विस्फोटक लेकर छकरबंधा जा रहे हैं। गया पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर तत्काल एसटीएफ की टीम गठित कर डोभी मोड़ पर वाहन चेकिंग शुरू कर दी गई। इसी दौरान झारखंड की नंबर प्लेट वाली एक सिल्वर कलर की स्विफ्ट डिजायर कार को पुलिस ने जब चेक किया, तो कार में विस्फोटक पाया गया। उस कार में अधिवक्ता मिथिलेश कुमार सिंह, नक्सली रूपेश कुमार सिंह और कार चालक मोहम्मद कलाम मौजूद थे। पुलिस ने कार से 15 बंडल डेटोनेटर भी बरामद किए गए। प्रत्येक बंडल में 25 इलेक्ट्रिक डेटोनेटर है। इसके अलावा 32 पीस जिलेटिन छड़, नक्सली साहित्य, तीन मोबाइल और एक चिप बरामद किया गया।

यह भी पढ़ें: नक्सलियों को शिक्षा की ओर मोड़ रहा गढ़चिरौली इग्नू-सेंटर

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App