मध्य प्रदेश: बालाघाट में पुलिस की नक्सलियों से मुठभेड़, एक कॉन्सटेबल घायल

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बालाघाट में पुलिस की नक्सलियों (Naxals) से मुठभेड़ हो गई। जंगलों में तलाशी के दौरान पुलिस पर नक्सलियों (Naxalites) ने हमला कर दिया। जवाब में पुलिस (Police) के जवानों ने भी गोलीबारी की।

Naxals

मुठभेड़ में घायल कॉन्सटेबल।

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बालाघाट में पुलिस की नक्सलियों (Naxals) से मुठभेड़ हो गई। जंगलों में तलाशी के दौरान पुलिस पर नक्सलियों (Naxalites) ने हमला कर दिया। जवाब में पुलिस (Police) के जवानों ने भी गोलीबारी की, जिस पर नक्सली चट्टानों की आड़ लेकर भाग निकले। नक्सली हमले (Naxal Attack) में हट्टा थाना क्षेत्र की गोदरी चौकी के एक कांस्टेबल घायल हो गए।

15 मई को हट्टा थाना क्षेत्र के गोदरी चौकी के अंतर्गत ठाकुरटोला व भानपुर के जंगल में पुलिस और नक्सलियों के बीच यह मुठभेड़ हुई। आरक्षक को मुंह और गर्दन के पास से गोली छूकर निकल गई। इधर, घटना के बाद आरक्षक को तत्काल गोंदिया अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उनका ऑपरेशन किया। फिलहाल आरक्षक की हालत स्थिर है। वहीं, घायल आरक्षक से मिलने के लिए आईजी केपी व्यंक्टेश्वर राव अस्पताल पहुंचे थे।

Jammu-Kashmir: सुरक्षाबलों ने किया आतंकी ठिकाने का भंडाफोड़, आतंकियों के सहयोगी गिरफ्तार

पुलिस के अनुसार, मुखबिर से नक्सलियों (Naxals) की मिल रही सूचना की तस्दीक करने गोदरी चौकी से ठाकुरटोला भानपुर के जंगल में पुलिस पार्टी को रवाना किया गया था। 15 मई की सुबह गोदरी चौकी से पुलिस के करीब 20 जवानों की पार्टी तलाशी के लिए जंगल गई थी। सर्चिंग के दौरान भानपुर-ठाकुरटोला के पास पहाड़ी के निचले हिस्से में जवान पहुंचे तो घात लगाए बैठे नक्सलियों ने हमला कर दिया।

इस दौरान पुलिस ने भी नक्सलियों पर फायर किया। लेकिन घने जंगल का फायदा उठाकर नक्सली (Naxali) भागने में सफल रहे। हमले में कांस्टेबल लोकेंद्र सिंह के गले में गोली लग गई। उन्हें गोंदिया स्थित सेंट्रल अस्पताल में भर्ती कराया गया। एसडीओपी नितेश भार्गव के अनुसार, सात पुलिस पार्टियां जंगल में तलाशी के लिए उतारी गई हैं। पुलिस जंगलों में नक्सलियों की तलाश कर रही है।

बालाघाट के एसपी अभिषेक तिवारी के मुताबिक, गोदरी क्षेत्र में मलाजखंड दलम के 12 से 15 नक्सलियों (Naxals) के होने की जानकारी मिल रही थी। लेकिन 15 मई को जब पुलिस से मुठभेड़ हुई तो उस समय तीन-चार नक्सलियों के होने की संभावना मानी जा रही है। हालांकि, मौके से किसी भी प्रकार की कोई नक्सल सामग्री नहीं मिली है। इधर, घटना के बाद हॉकफोर्स, सीआरपीएफ (CRPF) जंगलों में सर्चिंग कर रही है। आगामी तीन-चार दिनों तक ऑपरेशन चलाया जाएगा। ताकि नक्सली (Naxali) अपने मंसूबों पर कामयाब न होने पाए।

यह भी पढ़ें