हंदवाड़ा एनकाउंटर में 2 आतंकी ढेर, 5 जवान शहीद

दिन में कई बार बीच-बीच में गोलीबारी बंद हुई लेकिन जैसे ही सुरक्षाकर्मी उस मकान की ओर बढ़ते आतंकवादी गोलियां चलानी शुरू कर देते।

5 Jawans martyred, kupwada encounter, jammu kashmir, hindwada, crpf, 2 terrorists killed, 4 Jawans martyred,Kupwara,Kupwara encounter,Jammu kashmir, Jammu kashmir News, जम्मू कश्मीर में 4 जवान शहीद, आतंकियों से मुठभेड़, कुपवाडा एनकाउंटर, जम्मू कश्मीर, जम्मू कश्मीर की खबर

कुपवाड़ा में आतंकियों से मुठभेड़ में 5 जवान शहीद।

जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा में 28 फरवरी रात 9 बजे से जारी मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने 2 आतंकियों को ढेर कर दिया है। लगभग 70 घंटे से भी अधिक समय तक चले इस मुठभेड़ में दो आतंकियों के शव बरामद हुए हैं। सेना, सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ-साथ सेना के पैरा कमांडोंज ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया। सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को घेर लिया था। लेकिन आतंकी लगातार अपनी जगह बदलते रहे। रिहायशी इलाके में आतंकियों के छिपे होने की वजह से ऑपरेशन लंबा चला।

इसके अलावा सीआरपीएफ के एक जवान के शहीद होने की खबर आई है। यह जवान 2 फरवरी को इसी मुठभेड़ में आतंकियों की गोली से घायल हो गए थे। इस आतंक विरोधी अभियान के दौरान आतंकियों से लोहा लेते हुए 5 जवान शहीद हो गए। जिनमें 3 सीआरपीएफ के जवान और दो जवान जम्मू कश्मीर पुलिस के हैं। वहीं एक स्थानीय नागरिक के भी मारे जाने की सूचना है।

सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके को अपने कब्‍जे में ले रखा है। सर्च ऑपरेशन जारी है। सुरक्षाबलों को खुफिया जानकारी मिली थी कि जम्‍मू-कश्‍मीर के कुपवाड़ा के हंदवाड़ा सेक्‍टर में कुछ आतंकी छिपे हुए हैं। जानकारी के आधार पर सुरक्षाबलों ने हंदावाड़ा सेक्‍टर में सर्च ऑपरेशन शुरू किया। सुरक्षाबलों को देखते ही आतंकियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जानकारी के मुताबिक दो आतंकी मारे जा चुके हैं। सुरक्षाबलों के अनुसार इलाके में अभी और भी आतंकी छिपे हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ेंः कौन हैं विंग कमांडर अभिनंदन के साथ बाघा बॉर्डर तक चलकर आईं महिला?

मुठभेड़ रात 9 बजे कुपवाड़ा में हंदवाड़ा के बाबागुंड इलाके में शुरू हुई थी। 1 मार्च को सुरक्षाबलों ने उस घर को ब्लास्ट कर दिया था। जहां से आतंकी फायरिंग कर रहे थे। ब्लास्ट के बाद फायरिंग बंद हो गई थी। जिसके बाद सुरक्षाबल इमारत के अंदर गए। अंदर जाते ही छिपे हुए आतंकियों ने उनपर फायरिंग शुरू कर दी। इस में सुरक्षाबलों के 4 जवान शहीद हो गए और 9 घायल हो गए थे।

इसके बाद आतंकी दूसरे इलाके में घुस गए और वहां एक मकान में छिपकर गोलीबारी करने लगे। दिन में कई बार बीच-बीच में गोलीबारी बंद हुई लेकिन जैसे ही सुरक्षाकर्मी उस मकान की ओर बढ़ते आतंकवादी गोलियां चलानी शुरू कर देते। सुरक्षाबलों ने उस घर को भी ब्लास्ट कर उड़ा दिया। एक आतंकी जिसे मरा हुआ मान लिया गया था, उसने एक टूटे हुए मकान से निकलकर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। मुठभेड़ स्थल पर प्रदर्शन के दौरान एक नागरिक के मारे जाने की भी खबर मिली। पाक सेना की ओर से एलओसी पर पुंछ, कृष्णा घाटी, नवशेरा सेक्टर में गोलाबारी की गई थी। पिछले एक सप्ताह में पाकिस्तान की ओर से 60 बार सीजफायर का उल्लंघन किया गया।

इसे भी पढ़ेंः आतंकियों की पनाहगाह बालाकोट पर 15 साल से थी हमले की तैयारी, हरी झंडी का था इंतजार

यह भी पढ़ें