Jharkhand: 20 हथियारबंद साथियों के साथ ये नक्सली बना रहा था हमले की योजना, पुलिस ने धर दबोचा

नक्सल प्रभावित झारखंड (Jharkhand) के पश्चिमी सिंहभूम पुलिस को नक्सल विरोधी अभियान के दौरान बड़ी सफलता मिली। पुलिस ने 30 सितंबर को गोला बारूद के साथ एक नक्सली को गिरफ्तार किया। जिले के बंदगांव प्रखंड के हलमद गांव में गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर छापेमारी अभियान चलाया गया।

Jharkhand

Jharkhand पुलिस को खुफिया सूचना मिली थी कि सीपीआई माओवादी नक्सल दस्ते का जीवन कंडुलना अपने 15-20 साथियों के साथ हथियारबंद होकर इलाके में मौजूद है। उसके पास भारी मात्रा में हथियार व गोला बारूद होने की भी सूचना थी। सीआरपीएफ 60 बटालियन की टीम का गठन किया गया। योजना के अनुसार छापेमारी की गई।

छापामारी के क्रम में कोटागारा, शंकरा, हलमद गांव में तलाशी ली गई। तालाशी के दौरान हलमद गांव से एच 36 हाई एक्सप्लोसिव, तीन ग्रेनेड, एक देसी कट्टा, 5.56 एमएम की पांच गोलियां, 5.56 एमएम का 11 खोखा, 7.62 एमएम की 6 गोली, 7.62 एमएम के खोखे, तीन एम्यूनेशन पाउच बरामद किए गए। खबर है कि इस छापेमारी में एक नक्सली जीवन कंडुलना को गिरफ्तार किया गया। इससे पहले, बिहार-झारखंड सीमा पर लाल आतंक मचाने वाला हार्डकोर नक्सली मनोज सोरेन (Naxali Manoj Soren) को बिहार की चकाई पुलिस ने पकड़ने में सफलता हासिल की है।

पढ़ें: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के अहिंसा से बचेगी दुनिया

मनोज सोरेन बिहार के जमुई जिले के चकाई थाना क्षेत्र के बरमूडा वर मोरिया पंचायत के मंजिला डी गांव का रहने वाला है बिहार एवं Jharkhand पुलिस को यह सूचना मिल रही थी कि बिहार एवं Jharkhand के सीमांचल क्षेत्र जमुई के बर मोरिया इलाके में कोई बड़ी नक्सली घटना को अंजाम देने की फिराक में है। समय रहते पुलिस को नक्सली साजिश के बारे में पता चला गया। पुलिस ने इस नक्सली वारदात को टालने के लिए जगह-जगह जांच शुरू की। इसी बीच गुप्तचरों द्वारा सूचना दी गई कि मनोज सोरेन एक गाड़ी में बैठ कर चकाई की ओर जा रहा है।

इसी सूचना पर चकाई थाना प्रभारी और उनकी टीम ने अपने सतर्कता दिखाते हुए उसकी गाड़ी को चकाई चौक में ही रोककर मोर्चा संभालते हुए नाटकीय रूप से उसे तुरंत गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान मौके पर में ही मनोज सोरेन के पास एक देसी कट्टा तथा एक डायरी भी बरामद किया गया है। इस डायरी में में Jharkhand एवं बिहार के कई बड़े- बड़े नक्सलियों और ठेकेदारों का नाम एवं मोबाइल नंबर लिखे हुए हैं।

पढ़ें: बंगाली लोगों को क्यों नापसंद थे गांधी?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here