झारखंड: पुलिस के रडार पर टीपीसी के उग्रवादी, दूसरे राज्यों में छिपने का बना रहे प्लान

झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई हो रही है। टीपीसी (TPC) के उग्रवादी पुलिस के निशाने पर हैं और उनके खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है।

naxalites

सांकेतिक तस्वीर।

टीपीसी (TPC) के कई कुख्यात नक्सलियों ने झारखंड से भागने का फैसला किया है और किसी दूसरे राज्य में छिपने की योजना बनाई है। हालांकि पुलिस इन पर पैनी नजर बनाए हुए है।

रांची: झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई हो रही है। टीपीसी (TPC) के उग्रवादी पुलिस के निशाने पर हैं और इन्हें जड़ से खत्म करने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। यही वजह है कि टीपीसी के उग्रवादी झारखंड के कई जिलों में छिपने की कोशिश कर रहे हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक, टीपीसी (TPC) के कई कुख्यात नक्सलियों ने झारखंड से भागने का फैसला किया है और किसी दूसरे राज्य में छिपने की योजना बनाई है। हालांकि पुलिस इन पर पैनी नजर बनाए हुए है। पुलिस ने इन नक्सलियों को गिरफ्तार करने के लिए एक बड़ी रणनीति तैयार की है, इस वजह से टीपीसी के उग्रवादियों में खौफ का माहौल है।

बता दें कि प्रतिबंधित नक्सली संगठन एमसीसी से दरकिनार करके कुछ कुख्यात नक्सलियों ने टीपीसी नाम का एक संगठन बनाया था। इस संगठन का मुख्य उद्देश्य लेवी लेना था।

LAC पर तेजी से खाली हो रहा पैंगोंग सो का इलाका, चीन ने 2 दिन में हटाए 200 से अधिक टैंक

हालांकि टीपीसी उग्रवादियों का मुख्य क्षेत्र झारखंड का चतरा और चतरा के पड़ोसी जिले हजारीबाग, रामगढ़ आदि रहे हैं। क्योंकि यहां कोल परियोजनाएं चलती हैं।

बता दें कि पुलिस ने 27 टीपीसी के उग्रवादियों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है। इसमें 5 लाख के इनामी उग्रवादी भी हैं। इन इनामी उग्रवादियों में अनिश्चय गंझू, कृष्णा गंझू और सौरभ गंझू का नाम भी शामिल है।

बता दें कि 2021 के पहले महीने में ही पुलिस के सामने 15 लाख के इनामी टीपीसी के उग्रवादी मुकेश गंझू और उसके साथी उदेश गंझू ने सरेंडर कर दिया था। हालांकि सूत्र बताते हैं कि कुछ टीपीसी के उग्रवादी फरवरी में सरेंडर करने वाले हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें