झारखंड: सरायकेला में ग्रामीण को मारी थी गोली, नक्सलियों ने ली हत्या की जिम्मेदारी

भाकपा माओवादी के नक्सलियों (Naxals) ने झारखंड के सरायकेला के कुचाई थाना क्षेत्र में पिछले दिनों हुए छुटू कालिंदी की हत्या की जिम्मेदारी ली है। नक्सलियों ने कुचाई के बिरसा स्टेडियम के पास दो-तीन स्थानों पर इस बाबत पोस्टर चिपकाया है

Naxals

भाकपा माओवादी के नक्सलियों (Naxals) ने झारखंड के सरायकेला के कुचाई थाना क्षेत्र में पिछले दिनों हुए छुटू कालिंदी की हत्या की जिम्मेदारी ली है।

भाकपा माओवादी के नक्सलियों (Naxals) ने झारखंड के सरायकेला के कुचाई थाना क्षेत्र में पिछले दिनों हुए छुटू कालिंदी की हत्या की जिम्मेदारी ली है। नक्सलियों ने कुचाई के बिरसा स्टेडियम के पास दो-तीन स्थानों पर इस बाबत पोस्टर चिपकाया है और आरोप लगाया है कि छुटू कालिंदी एसपीओ और पुलिस का मुखबिर था। इसलिए छुटू कालिंदी को मौत की सजा दी गई है।

Naxals
नक्सलियों द्वारा चिपकाया गया पोस्टर।

 

नक्सलियों (Naxals) के पोस्टर में निवेदक में दक्षिणी जोनल कमेटी, भाकपा (माओवादी) का नाम लिखा हुआ है। इस घटना से क्षेत्र में दहशत फैल गई है। जानकारी मिलने के बाद कुचाई पुलिस ने तत्काल सभी पोस्टरों को जब्त किया। पुलिस के अनुसार, पोस्टर की सत्यता की जांच की जा रही है। पोस्टरबाजी की घटना के बाद पुलिस की ओर से क्षेत्र में एलआरपी भी शुरू कर दी गई है। बता दें कि छुटू कालिंदी की पिछले 17 जनवरी को कुचाई थाना क्षेत्र के काडेकेदा पुलिया के पास हत्या हुई थी।

छुटू कुचाई थाना क्षेत्र के तोडांगडीह गांव का रहने वाला था। कुचाई से अपने घर लौटने के दौरान दोपहर करीब दो से ढ़ाई बजे के बीच गोली मार कर उसकी हत्या कर दी गई थी। इससे घटना स्थल पर ही उसकी मौत हो गई थी। सरायकेला-खरसावां का कुचाई धुर नक्सल प्रभावित इलाका है। इस इलाके में मुठभेड़ की कई घटनाएं भी हो चुकी है। नक्सली कैंप सर्च ऑपरेशन के दौरान कई बार ध्वस्त किए गए। लेकिन जंगली इलाके का फायदा उठाते हुए नक्सली (Naxals) वापस कैंप बना लेते हैं।

हालांकि, हाल के दिनों में यह पहला मामला है, जब नक्सली संगठन ने किसी हत्या की जिम्मेदारी ली है। इस मामले में कुचाई थाना प्रभारी उदय गुप्ता का कहना है, ‘पुलिस ने भाकपा (माओवादी) के नाम से जारी किये गये दो-तीन पोस्टर जब्त किये है। पोस्टर के सत्यता की जांच की जा रही है। छुटू कालिंदी का पुलिस से कोई लेना-देना नहीं था। छुटू कालिंदी मुखबिर या एसपीओ नहीं था। क्षेत्र में एलआरपी जारी है।’

पढ़ें: मदनवाड़ा नक्सली हमले की जांच के लिए आयोग गठित, एसपी सहित 29 पुलिसकर्मी हुए थे शहीद

यह भी पढ़ें