झारखंड: सरायकेला-खरसावां पुलिस ने कुख्यात नक्सली कमांडर सहित दो को किया गिरफ्तार, लेवी के लिए दे रहा था धमकी

झारखंड की सरायकेला-खरसावां जिला पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। पुलिस ने नक्सली संगठन (Naxal Commander) के कमांडर समेत दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया है।

Naxal Commander

झारखंड की सरायकेला-खरसावां जिला पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। पुलिस ने नक्सली संगठन (Naxal Commander) के कमांडर समेत दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया है।

झारखंड की सरायकेला-खरसावां जिला पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। पुलिस ने नक्सली संगठन (Naxal Commander) के कमांडर समेत दो नक्सलियों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार नक्सलियों में संगठन का कमांडर गणेश गागराई और सावन तियू शामिल हैं। जिला पुलिस कार्यालय में अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी राकेश रंजन ने 17 फरवरी को प्रेसवार्ता में पत्रकारों को यह जानकारी दी।

Naxal Commander
गिरफ्तार नक्सली कमांडर और उसका साथी।

अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी राकेश रंजन के अनुसार, नक्सली संगठन का कमांडर (Naxal Commander) गणेश गागराई ठेकेदारों एवं कारोबारियों से लगातार लेवी की मांग कर रहा था और उन्हें धमकी दे रहा था। गणेश पश्चिमी सिंहभूम जिला के सोनुवा थानांतर्गत परसा गांव का रहने वाला है। जबकि उसके साथ पकड़ा गया नक्सली सावन तियू पश्चिमी सिंहभूम जिले के चक्रधरपुर थाना के सिकीदिरी का रहने वाला है।

लेवी के लिए दे रहा था धमकी

एसडीपीओ राकेश रंजन के मुताबिक, जिले के पुलिस अधीक्षक को सूचना मिली थी कि नक्सली संगठन पीएलएफआइ (PLFI) का पूर्व सदस्य जेएसजेएमएम के नाम पर संगठन बनाकर सरायकेला-खरसावां के कई थाना क्षेत्र में घूम-घूमकर सरकार की विकास योजनाओं के तहत कार्य करा रहे ठेकेदारों एवं कारोबारियों से लेवी की वसूली कर रहा है। लेवी नहीं देने पर वह हिंसक कार्रवाई करने की धमकी दे रहा है।

सूचना के आधार पर अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी के नेतृत्व में छापेमारी टीम गठित की गई। छापेमारी टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर त्वरित कार्रवाई करते हुए नक्सली कमांडर (Naxal Commander) और उसके एक सहयोगी को गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार नक्सलियों की निशानदेही पर व्यवसायियों से लेवी वसूलने के लिए प्रयुक्त सिम के साथ मोबाइल और बाइक भी बरामद की गई।

आधा दर्जन से अधिक मामलों में स्वीकार की संलिप्तता

पुलिस के मुताबिक, पूछताछ करने पर गणेश गागराई और सावन तियु ने सरायकेला एवं चाईबासा जिले में आधा दर्जन से अधिक मामलों में संलिप्तता स्वीकार की। गणेश गागराई दिसंबर, 2019 के महीने में जमानत पर जेल से निकला था। उसके बाद वह बड़ाबांबो से सुपाईसाई तक सड़क बना रहे ठेकेदार से लगातार लेवी की मांग कर रहा था। एसडीपीओ के अनुसार, इनकी गिरफ्तारी से क्षेत्र में हो रहा विकास कार्य शांतिपूर्ण संपन्न हो पाएगा। जेल के बाहर निकल गणेश ने खरसावां के ईंट भट्ठा कारोबारी से दो लाख रुपये लेवी की वसूली की थी, जबकि सरायकेला के व्यवसायी को लेवी नहीं देने पर धमकी दी थी।

कई नक्सली वारदातों में रहा है शामिल

गिरफ्तार नक्सली कमांडर (Naxal Commander) गणेश गागराई ने साल 2016 में सरायकेला थाना इलाके के सीनी मोड़ से उकरी मोड़ होते हुए खरसावां तक सड़क निर्माण में लगी मशीन को आकर्षिणी मंदिर के पास जला दिया था। साथ ही हवाई फायरिंग भी की थी। साल 2016 में खरसावां थाना इलाके में हुई डकैती में भी वह शामिल था। साल 2016 में ही चाईबासा थाना इलाके में पेट्रोल पंप संचालक से रंगदारी वसूलने के मामले में गिरफ्तार हुआ था और उसकी निशानदेही पर उसके घर से कार्बाइन बरामद हुआ था।

पढ़ें: CRPF का एक और जवान शहीद, बीजापुर नक्सली मुठभेड़ में हुआ था घायल

यह भी पढ़ें