झारखंड: जंगल में जवानों ने नक्सलियों के ट्रेनिंग कैंप पर बोला धावा, एक धराया, हथियार समेत कई सामान बरामद

झारखंड के लातेहार जिले में सुरक्षाबलों को एंटी नक्सल ऑपरेशन (Anti Naxal Operation) के दौरान कामयाबी हासिल हुई। सुरक्षाबलों ने प्रतिबंधित नक्सली संगठन टीपीसी (TPC) के सदस्य संकेन्द्र गंझू को गिरफ्तार कर लिया

TPC

सुरक्षाबलों ने प्रतिबंधित नक्सली संगठन टीपीसी (TPC) के सदस्य संकेन्द्र गंझू को गिरफ्तार कर लिया।

झारखंड के लातेहार जिले में सुरक्षाबलों को एंटी नक्सल ऑपरेशन (Anti Naxal Operation) के दौरान कामयाबी हासिल हुई। सुरक्षाबलों ने प्रतिबंधित नक्सली संगठन टीपीसी (TPC) के सदस्य संकेन्द्र गंझू को गिरफ्तार कर लिया। हालांकि, अन्य नक्सली जंगल और अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में सफल हो गए। 

TPC
गिरफ्तार TPC नक्सली।

यह पूरा मामला जिले के चंदवा थाना इलाके के गरदाग जंगल का है। जंगल में चल रहे नक्सलियों के अस्थायी ट्रेनिंग कैंप पर धावा बोल कर जवानों ने यह सफलता हासिल की। एसडीपीओ वीरेन्द्र कुमार के मुताबिक, जिले के गरदाग जंगल में टीपीसी (TPC) के जोनल कमांडर पत्थर जी और उसके दस्ते की मौजूदगी की खुफिया सूचना मिली थी। सूचना के सत्यापन के बाद जिला पुलिस और सीआरपीएफ (CRPF) 133वीं बटालियन की टीम ने संयुक्त सर्च ऑपरेशन चलाया। गरदाग जंगल में चल रहे नक्सलियों के अस्थायी ट्रेनिंग कैंप पर जवानों ने धावा बोल दिया।

सुरक्षाबलों द्वारा अचानक की गई कार्रवाई से कैंप में मौजूद नक्सली घबरा गए। पुलिस पर नक्सलियों की नजर पड़ते ही वे जंगल और अंधेरे का फायदा उठाकर भागने लगे। लेकिन, जवानों ने तत्परता दिखाते हुए एक नक्सली सकेन्द्र गंझू को गिरफ्तार कर लिया। इसके अलावा सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के कैंप से 152 पीस जिन्दा कारतूस, वर्दी, मैगजीन, नक्सली साहित्य और भारी मात्रा में दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद किया। वहीं, फरार हुए नक्सलियों की गिरफ्तारी के लिए सुरक्षाबलों का अभियान जारी है। इससे पहले, पलामू पुलिस ने हरिहरगंज थाना क्षेत्र से नक्सली संगठन टीपीसी (TPC) के एरिया कमांडर महेश्वर राम उर्फ शेखर जी को गिरफ्तार किया था।

पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार एरिया कमांडर ने कई नक्सली वारदातों में अपनी संलिप्‍तता स्वीकार की है। एसपी अजय लिंडा ने बताया की TPC का एरिया कंमाडर शेखर जी इसके पहले लूट कांड में जेल गया था। 30 दिसंबर, 2019 को छतरपुर के मुनकेरी में हुई आगजनी की घटना में भी वह शामिल था। इसके अलावा महेश्वर राम उर्फ शेखर जी ने संगठन से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारी भी दी है, जिसके आधार पर पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है।

पढ़ें: हरिवंश राय बच्चन के प्रयासों के कारण ही कवियों को भी मिलने लगा मेहनताना