लातेहार में लैंडमाइंस विस्फोट कर दहशत फैलाने की साजिश! नक्सलियों की हर चाल पर पुलिस की नजर

झारखंड में विधानसभा चुनाव से पहले नक्सली रह-रह कर दहशत फैलाने की फिराक में हैं। अब नक्सलियों ने लातेहार (Latehar) जिले में लैंडमाइंस विस्फोट कर दिया। नक्सलियों द्वारा किया गया यह धमाका इतना जोरदार था कि इसकी गूंज करीब ढाई किलोमीटर दूर तक सुनी गई।

Latehar
नक्सलियों ने लातेहार (Latehar) जिले में लैंडमाइंस विस्फोट कर दिया।

जानकारी के मुताबिक, लातेहार (Latehar) के रिचुघुटा के केदली जंगल में बीते रविवार (24-11-2019) की रात नक्सलियों ने इस घटना को अंजाम दिया। इस इलाके में रहने वाले लोगों का कहना था कि धमाके की वजह से बस्ती में स्थित उनके घरों के दरवाजे तक हिल गए। हालांकि इस धमाके के चपेट में आने से किसी इंसान की मौत तो नहीं हुई लेकिन गांववालों के मुताबिक, धमाके में कुछ मवेशियों की मौत हो गई। हालांकि अभी इस घटना को लेकर प्रशासन की तरफ से साफ-साफ कुछ भी नहीं कहा गया है और पूरे मामले की तफ्तीश की जा रही है।

इससे पहले भी लातेहार (Latehar) सदर थाने की पुलिस को रिचुघुटा के पास एक स्कूल भवन के उड़ाए जाने की सूचना मिली थी, लेकिन यह खबर अफवाह साबित हुई। बहरहाल, अभी पुलिस इस धमाके की जांच कर रही है। आपको बता दें कि झारखंड में चुनाव नजदीक हैं और नक्सली किसी तरह इन चुनावों में गड़बड़ियां पैदा करना चाहते हैं। लेकिन राज्य प्रशासन ने नक्सलियों पर नकेल कसने की पूरी तैयारी कर ली है। पुलिस नक्सल प्रभावित इलाकों में लगातार छापेमारी कर रही है और उनके नेटवर्क को धवस्त करने में जुटी हुई है। आपको याद दिला दें कि बीते 30 नवंबर को राज्य में पहले चरण के लिए मतदान होने हैं।

इस मतदान से पहले 22 नवंबर की शाम नक्सलियों ने लातेहर (Latehar) में पुलिस पार्टी पर हमला किया था। इस हमले में पुलिस के 4 जवान शहीद हो गए थे। नक्सलियों ने पुलिस पर यह हमला लातेहार जिले के चंदवा थाना से महज चार किलोमीटर की दूरी पर किया था। इस दौरान पुलिस और नक्सलियों में मुठभेड़ भी हुआ था। इस नक्सली हमले में शहीद पुलिसकर्मियों की पहचान सब-इंस्पेक्टर सुकिया उरांव, कांस्टेबल दिनेस कुमार, कांस्टेबल सिकंदर सिंह, वाहन चालक यमुना राम के रूप में हुई थी। इस घटना पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने दुख जताते हुए कि कहा था कि पूरा देश शहीदों के परिवार के साथ खड़ा है।

पढ़ें: कथक क्‍वीन सितारा देवी, जिन्होंने पद्मभूषण सम्मान ठुकराया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here