झारखंड: नक्सलवाद पर सरकारी एजेंसियों का प्रहार, अब तक राज्य के 32 नक्सलियों की करोड़ों की संपत्ति हो चुकी है जब्त

झारखंड (Jharkhand) में नक्सली (Naxalites) लेवी के पैसों से करोड़ों की संपत्ति जमा कर चुके हैं। लोगों में हदशत पैदा कर वे खुद आराम की जिंदगी जी रहे हैं।

Naxalites Letter

सांकेतिक तस्वीर।

राज्य और केंद्र सरकार की एजेंसियों ने नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ लेवी-रंगदारी से बनाई गई चल-अचल संपत्तियों पर पिछले पांच साल के भीतर बड़ी कार्रवाई की है।

झारखंड (Jharkhand) में नक्सली (Naxalites) लेवी के पैसों से करोड़ों की संपत्ति जमा कर चुके हैं। लोगों में हदशत पैदा कर वे खुद आराम की जिंदगी जी रहे हैं। नक्सलियों की कमर तोड़ने के लिए पुलिस उनकी संपत्तियों को लगातार जब्त कर रही है। पुलिस ने हाल के सालों में कई नक्सलियों की संपत्ति जब्त भी की है।

इसके अलावा, राज्य व केंद्र सरकार की एजेंसियों ने नक्सलियों (Naxalites) के खिलाफ लेवी-रंगदारी से बनाई गई चल-अचल संपत्तियों पर पिछले पांच साल के भीतर बड़ी कार्रवाई की है। अब तक उनकी अरबों की संपत्ति जब्त की जा चुकी है।

Punjab: अमृतसर के रिहायशी इलाके में ग्रेनेड बरामद, मचा हड़कंप

इसी कड़ी में एनआईए (NIA) ने चतरा में उग्रवादी संगठन टीएसपीसी (तृतीय सम्मेलन प्रस्तुति कमेटी) के उग्रवादी गोपाल सिंह भोक्ता उर्फ ब्रजेश गंझू की एक ऐसी ही संपत्ति को चिन्हित किया है। चतरा जिले के लावालौंग में इस कुख्यात नक्सली ने कोयला कारोबारियों से वसूली गई लेवी की रकम से 245 डिसमिल जमीन खरीदी है।

इस जमीन पर नक्सली की पत्नी चंपा देवी के नाम पर निजी इंटर कॉलेज चल रहा है। एनआईए ने कालेज को सील कर कानूनी कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू कर दी है। एनआईए ने इस बाबत गृह विभाग को दी गई जानकारी में कहा है कि उक्त जमीन पर नक्सली की पत्नी 11 सालों से कालेज का संचालन कर रही है। कालेज को मान्यता नहीं मिली है, लेकिन बच्चे यहां पढ़ते हैं।

मध्य प्रदेश: बालाघाट में नक्सलियों की कमर तोड़ने की तैयारी में पुलिस, चला रही सर्च ऑपरेशन

बता दें कि एनआईए और ईडी के अलावा झारखंड पुलिस भी राज्य के 32 नक्सलियों की करोड़ों की संपत्ति जब्त कर चुकी है। अभी भी नक्सलियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जा रही है।

जानकारी के अनुसार, उग्रवादी संगठन तृतीय सम्मेलन प्रस्तुति कमेटी (TSPC) के 16 उग्रवादियों की संपत्ति जब्त की जा चुकी है। इनमें चार रिजनल कमांडर, एक सब जोनल कमांडर, तीन जोनल कमांडर, एक एरिया कमांडर व सात सदस्यों की संपत्ति शामिल है। इनकी 123 एकड़ भूमि, आठ बिल्डिंग, जिसकी कीमत चार करोड़ 19 लाख 354 रुपये है, 26 वाहन व 41 लाख 14 हजार रुपये जब्त किए गए हैं।

अफगानिस्तान: तालिबान ने कंधार पर किया कब्जा, राजधानी काबुल है अगला टारगेट

वहीं, उग्रवादी संगठन पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (PLFI) के चार उग्रवादियों की संपत्ति जब्त की गई है। इनमें एक जोनल कमांडर, दो सब जोनल कमांडर व एक सदस्य शामिल है। इनकी 2.15 एकड़ भूमि, दो भवन, जिसकी कीमत चार लाख 36 हजार रुपये है, आठ गाड़‍ियां व एक लाख 73 हजार 893 रुपये जब्त किए गए हैं।

इसके अलावा, सीपीआई माओवादी के 13 नक्सलियों की संपत्ति जब्त की गई है। इनमें एक रिजनल कमांडर, एक जोनल कमांडर, पांच सब जोनल कमांडर, एक एरिया कमांडर व पांच सदस्य शामिल हैं। ढाई साल में इनकी 83.53 एकड़ भूमि, जिसकी कीमत 73 लाख 62 हजार 800 रुपये है, जब्त की गई है।

ये भी देखें-

इतना ही नहीं, इनके आठ भवन भी जब्त किए गए हैं, जिसकी कीमत एक करोड़, 96 लाख 19 हजार 443 रुपये है। कुल 473.9 ग्राम सोना, 56 लाख 71 हजार 316 रुपये नकदी व छह लाख की गाड़ी भी जब्त की जा चुकी है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें