झारखंड: लॉकडाउन में गिरिडीह पुलिस निभा रही फर्ज, जिले के धुर नक्सल इलाकों में बांटे राशन

लॉकडाउन (Lockdown) की स्थिति ने इन गरीब आदिवासियों के सामने राशन की कोई कमी ना हो इसके लिए गिरिडीह पुलिस (Police) इन नक्सलवाद प्रभावित क्षेत्रों में लोगों की पूरी मदद कर रही है।

Lockdown

लॉकडाउन में गिरिडीह पुलिस निभा रही फर्ज।

झारखंड (Jharkhand) के गिरिडीह जिले के घोर नक्सल प्रभावित क्षेत्रों (Naxal Area) में डुमरी का दक्षिणांचल क्षेत्र नामी-गिरामी क्षेत्र है। इन क्षेत्रों में गरीब आदिवासियों का गांव है, जहां लोगों के जीविका का एकमात्र साधन मजदूरी करना है। आदिवासी मजदूरी करके अपने परिवार को चलाते हैं। लॉकडाउन (Lockdown) की स्थिति ने इन गरीब आदिवासियों के सामने राशन की कोई कमी ना हो इसके लिए गिरिडीह पुलिस (Police) इन नक्सलवाद प्रभावित क्षेत्रों में लोगों की पूरी मदद कर रही है।

ये इलाके गिरिडीह और बोकारो जिले के बॉर्डर पर स्थित हैं। इनमें डुमरी अनुमंडल का चेचरिया गांव भी शामिल है। जिले के पुलिस कप्तान सुरेंद्र कुमार झा के नेतृत्व में पुलिस के जवानों ने यहां पहुंचकर कर दर्जनों आदिवासी परिवारों के बीच सूखे अनाज जिसमें चावल दाल आलू तेल साबुन इत्यादि का वितरण किया।

नेपाल की इस हरकत से हर भारतीय का खून खौल उठा, चीन के इशारे पर नेपाल ने इन भारतीय क्षेत्रों पर जताया अपना अधिकार

इससे पहले ग्रामीणों का स्वास्थ्य जांच किया गया एवं मास्क एवं सैनिटाइजर इन लोगों के बीच बांटे गए। इस दौरान अन्य प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद थे। ग्रामीण महिला पुरुषों को सूखे अनाज का पैकेट दिया गया। एसपी सुरेंद्र कुमार झा ने बताया कि वे इस इलाके में तैनात होने की वजह से जंगल के हर क्षेत्र से परिचित हैं। इन गांवों में नक्सल ऑपरेशन के दौरान वहां की समस्याओं को वे अच्छी तरह समझते हैं।

इन क्षेत्रों के भोले-भाले आदिवासी भाई-भाई बहनों और बच्चों को भूखा ना रहना पड़े इसके लिए गिरिडीह पुलिस द्वारा इन क्षेत्रों में अनाज का वितरण करने के साथ-साथ लोगों का स्वास्थ्य भी जांच किया जा रहा है। बता दें कि कोरोना (Corona Virus) के संक्रमण को देखते हुए देश में लॉकडाउन (Lockdown) को बढ़ा दिया गया है।

लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से सुदूर गांवों में रहने वाले लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी स्थिति में पुलिस प्रशासन और सुरक्षाबल के जवान लोगों की मदद के लिए मुस्तैद हैं। लोगों को राशन, स्वास्थ्य सुविधाएं आदि मुहैया कराने के लिए हमारी पुलिस और प्रशासन तत्पर है।

यह भी पढ़ें