झारखंड: गिरिडीह से कुख्यात नक्सली गिरफ्तार, बड़ी मात्रा में हथियार और प्रतिबंधित सामग्री बरामद

jharkhand, naxali, naxal, naxali arrested, giridih, jharkhand police, झारखंड, नक्सली, नक्सली गिरफ्तार, गिरिडीह, पुलिस, सिर्फ सच
झारखंड के गिरिडीह से कुख्यात नक्सली गिरफ्तार

नक्सल प्रभावित झारखंड के गिरिडीह के निमियाघाट और पीरटांड़ थाना पुलिस ने एक हार्डकोर नक्सली को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने खुफिया सूचना के आधार पर 20 सितंबर को निमियाघाट थाना क्षेत्र के चेचेडिया जंगल में छापेमारी कर एक कुख्यात नक्सली धुमा सोरेन उर्फ राजेश को दबोच लिया। पुलिस ने गिरफ्तार माओवादी के पास से नक्सली साहित्य के अलावा पांच डेटोनेटर, दो पोस्टर तथा तीन बैनर बरामद किया है। माओवादी की गिरफ्तारी की पुष्टि डुमरी एसडीपीओ नीरज सिंह ने किया है। डुमरी एसडीपीओ ने निमियाघाट थाना में प्रेस वार्ता कर जानकारी दिया है कि इस कुख्यात नक्सली की खोज पुलिस को बहुत दिनों से थी।

पुलिस के अनुसार, धुमा सोरेन इनामी माओवादी कृष्णा के दस्ते का सदस्य है। जानकारी के मुताबिक, पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि माकन चेचरिया नामक गांव में प्रतिबंधित माओवादी नक्सलियों का दस्ता स्थापना दिवस के बहाने से लोगों को गोलबंद करने एवं सरकारी नीतियों का विरोध करने के साथ-साथ पोस्टर बाजी करने के लिए आया हुआ है। जिसके बाद पुलिस ने टीम बनाकर ऑपरेशन चलाया और धुमा सोरेन को गिरफ्तार कर लिया। धुमा सोरेन पर लगभग आधा दर्जन आपराधिक मामले दर्ज हैं। इसमें प्राइवेट सुरक्षा एजेंसी एसआइएस का वाहन उड़ाने सहित अन्य कई गंभीर मामले शामिल हैं। एसडीपीओ के मुताबिक, गिरफ्तार नक्सली पर पीरटांड और निमियाघाट थाना में भी नक्सली वारदातों में केस दर्ज हैं।

एसडीपीओ के अनुसार, गिरफ्तार माओवादी धुमा सोरेन को निमियाघाट पुलिस रिमांड पर लेकर पूछताछ कर सकती है। पुलिस इस नक्सली की गिरफ्तारी को बड़ी कामयाबी मान रही है। क्योंकि गिरफ्तार नक्सली से रणविजय एवं कृष्णा के दस्ते से आए हुए नक्सलियों के बारे में पता चलेगा तथा नक्सलियों की आगे की क्या प्लानिंग है इसकी जानकारी पुलिस को इस नक्सली के माध्यम से मिल पाएगी। इससे पहले राज्य के चतरा में पुलिस ने कुख्यात नक्सली संगठन टीपीसी के लिए फंडिंग करने के साथ अन्य गैर कानूनी कार्रवाई में शामिल होने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया था।

पढ़ें: खूबसूरत चेहरे और दिलकश आवाज की जादूगरनी थी ‘मल्लिका-ए-तरन्नुम’

यह गिरफ्तारी स्पेशल टास्क फोर्स के द्वारा की गई। चतरा के पुलिस कप्तान अखिलेश बी वारियर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस कार्रवाई के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि 2 लोगों की गिरफ्तारी के अलावा 77 लोगों को इस मामले में नामजद अभियुक्त भी बनाया गया है। पुलिस कप्तान वारियर ने कहा कि पिपरवार थाना क्षेत्र में सक्रिय नक्सली संगठन टीपीसी के द्वारा संचालन समिति के नाम से कोल परियोजना से जुड़े कोल व्यवसायों से अवैध रुपये की वसूली की जा रही है। पुलिस बल की टीम ने 14-15 सितंबर की रात छापेमारी की। इस छापेमारी में विनय भोक्ता और धनराज भोक्ता उर्फ मिठू पिपरवार नाम के 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया।

पुलिस ने बताया है कि विनय भोक्ता जमाडीह गांव का रहने वाला है जबकि मिठू पिपरवार बरवाडीह गांव का रहने वाला है। इनके घर की तलाशी लेने के बाद विभिन्न बैंकों के 23 पासबुक, 24 चेक बुक, वाहनों से संबंधित कागजात, पैन कार्ड, आधार कार्ड समेत अन्य कागजात बरामद किेये गये हैं। पुलिस के मुताबिक नक्सलियों की मदद करने के आरोप में जिन 77 लोगों पर नामजद मुकदमा दर्ज किया गया है उनमें सीसीएल के लोगों के भी नाम शामिल हैं।

पढ़ें: एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने बालाकोट एयरस्ट्राइक को लेकर शेयर की बड़ी बात…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here