लोगों की मदद के लिए 24 घंटे तत्पर है CRPF- आईजी राजकुमार

सीआरपीएफ (CRPF) के आईजी राजकुमार ने झारखंड के गढ़वा में 27 फरवरी को सीआरपीएफ को 172वीं बटालियन के कैंप का निरीक्षण किया।

CRPF

सीआरपीएफ (CRPF) के आईजी राजकुमार ने झारखंड के गढ़वा में 27 फरवरी को सीआरपीएफ को 172वीं बटालियन के कैंप का निरीक्षण किया।

सीआरपीएफ (CRPF) के आईजी राजकुमार ने झारखंड के गढ़वा में 27 फरवरी को सीआरपीएफ को 172वीं बटालियन के कैंप का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि सीआरपीएफ (CRPF) के पदाधिकारी एवं जवान नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के लोगों की मदद के लिए 24 घंटे तत्पर रहते हैं। हमारा प्रयास है कि नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के लोग खासकर बच्चे यहां से निकल, बाहरी दुनियां का सैर करें। ताकि वे दूसरे राज्यों के रहन-सहन, खान-पान तथा वहां की संस्कृति को नजदीक से देखें, जाने और समझें।

CRPF
फाइल फोटो।

भ्रमण से लौटे बच्चों को किया सम्मानित: इस दौरान आईजी ने 12वीं ट्रायबल यूथ एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत जम्मू तथा अमृतसर से घूमकर वापस लौटे बच्चों को सम्मानित भी किया। आईजी ने इन युवाओं से कहा कि जिन-जिन जगहों पर आप सभी घूमें और ठहरे वहां के संबंध में दूसरों से भी अपने अनुभवों को साझा करें। ताकि लोगों को दूसरे राज्यों के रहन-सहन, खान-पान और उनकी संस्कृति के संबंध में भी जानकारी मिल सके।

सिविक एक्शन प्रोग्राम को प्रभावी बनाने पर चर्चा: इससे पहले आईजी ने सीआरपीएफ कैंप का निरीक्षण किया तथा इसके उपरांत सीआरपीएफ समेत प्रशासनिक पदाधिकारियों के साथ बैठक की। इन्होंने इस दौरान जवानों और अधिकारियों को कई आवश्यक निर्देश दिए। साथ ही नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सिविक एक्शन प्रोग्राम को और भी प्रभावी बनाने पर चर्चा की।

पिछड़े इलाकों के युवाओं आगे बढ़ाना है CRPF का मकसद: बता दें कि सीआरपीएफ (CRPF) की ओर से ट्रायबल यूथ एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत नक्सल प्रभावित इलाकों के युवाओं को देश के विभिन्न हिस्सों में भ्रमण पर भेजा जाता है। इसके पीछे CRPF का मुख्य उद्देश्य इन युवाओं में आत्मविश्वास पैदा करने के साथ ही इन युवाओं को भटकने से बचाना है। सीआरपीएफ का मकसद है कि पिछड़े इलाकों के युवा भी आगे बढ़ें, देश के अन्य राज्यों बारे में जानें। सीआरपीएफ का यह पहल इन इलाकों के युवाओं के मानसिक विकास पर बहुत ही सकारात्मक प्रभाव डाल सकता है, जो इन्हें गलत रास्ते पर जाने से रोकेगा।

सिविक एक्शन प्रोग्राम के जरिए CRPF करती है लोगों की मदद: इसके अलावा CRPF का सिविक एक्शन प्रोग्राम नक्सल ग्रस्त इलाकों के लोगों को मदद पहुंचाने के उद्देश्य से शुरू किया गया। इसके तहत सीआरपीएफ पिछड़े और नक्सल प्रभावित इलाकों के लोगों में जरूरत के सामान जैसे दवाईयां, बच्चों की पढ़ाई के लिए स्टेशनरी की चीजें, कंबल, सोलर लाइट्स आदि वितरित करती है। इसके अलावा समय-समय पर CRPF द्वारा स्वास्थ्य शिविर और अन्य जागरूकता शिविरों का आयेजन भी किया जाता है।

पढ़ें: झारखंड डीजीपी ने नक्सलियों को चेताया, बोले- “हिम्मत है तो सामने आकर दिखाएं”

यह भी पढ़ें