बोकारो में नक्सली मुठभेड़, बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में था एक करोड़ का इनामी मिथिलेश सिंह

झारखंड के बोकारो जिले के नक्सल प्रभावित चतरो चट्टी थाना के झुमरा पहाड़ के तलहटी स्थित राज डेरवा नामक गांव के जंगली इलाकों में पुलिस और नक्सलियों (Naxals) के बीच बड़ी मुठभेड़ हुई।

Naxals

झारखंड के बोकारो जिले के नक्सल प्रभावित चतरो चट्टी थाना के राज डेरवा नामक गांव के जंगली इलाकों में पुलिस और नक्सलियों (Naxals) के बीच बड़ी मुठभेड़ हुई।

झारखंड के बोकारो जिले के नक्सल प्रभावित चतरो चट्टी थाना के झुमरा पहाड़ के तलहटी स्थित राज डेरवा नामक गांव के जंगली इलाकों में पुलिस और नक्सलियों (Naxals) के बीच बड़ी मुठभेड़ हुई। यह मुठभेड़ 2 फरवरी की सुबह सर्च अभियान के दौरान हुई। पुलिस सूत्रों के अनुसार, एक करोड़ के इनामी नक्सली कमांडर मिथिलेश सिंह उर्फ दुर्योधन महतो के दस्ते के साथ पुलिस की मुठभेड़ हुई।

Naxals
फाइल फोटो।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि मिथिलेश सिंह अपने साथियों के साथ बड़ी घटना को अंजाम देने के लिए कोई रणनीति बना रहा है। इस सूचना के आधार पर पुलिस क्षेत्र की नाकेबंदी कर सर्च अभियान चला रही थी, इसी दौरान नक्सलियों (Naxals) से सामना हो गया। हालांकि, पुलिस को भारी पड़ते देख नक्सली घने जंगल की ओर भागने में सफल रहे। पुलिस और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में कई नक्सलियों को गोली लगने की सूचना है। जानकारी के अनुसार, चतरो थाना क्षेत्र के झुमरा में पुलिस सर्च अभियान चला रही थी, इसी दौरान पुलिस को जंगल की ओर आते देख मिथिलेश सिंह की नक्सली दस्तों ने पुलिस पर फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद जवाबी कार्रवाई करते हुए पुलिस के जवानों द्वारा भी फायरिंग की गई।

बताया जा रहा है कि दोनों तरफ से काफी देर तक गोलीबारी हुई। इस दौरान दोनों ओर से करीब सात सौ से भी ज्यादा राउंड फायरिंग हुई। इस दौरान नक्सलियों की ओर से आईईडी (IED) बम विस्फोट किया गया। जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने मोर्टार दागे। इस मुठभेड़ में एक जवान सुबोध कुमार घायल हो गया। हालांकि घायल जवान की स्थिति खतरे से बाहर है। बता दें कि बेरमो अनुमंडल के नक्सल प्रभावित क्षेत्रों और जागेश्वर बिहार थाना क्षेत्र के जंगली इलाकों में एक करोड़ के इनामी नक्सली नेता मिथिलेश सिंह का सशस्त्र दस्ता लगातार सक्रिय है। इस दस्ते में करीब 14 सदस्य शामिल हैं जो खूंखार नक्सलियों (Naxals) की गिनती में आते हैं। इन नक्सलियों के पास अत्याधुनिक हथियार एवं गोला बारूद भारी मात्रा में है। नक्सलियों के दोनों ही थाना क्षेत्र के पहाड़ी अंबाला कारी पानी, रोला, मोरपा सूअर कटवा आदि गांवों में संगठन विस्तार को लेकर लगातार बैठक कर रहे हैं।

वे अपने पुराने नक्सली साथियों के साथ संपर्क साध रहे हैं, ताकि इनके दस्ते में नक्सलियों की संख्या बढ़ाई जा सके। इसके अलावा आस-पास के क्षेत्रों में हो रहे विकास कार्यों जैसे पुल निर्माण सड़क निर्माण तथा झुमरा एक्शन प्लान के तहत बन रहे सड़क निर्माण रेलवे लाइन के दोहरीकरण के कामों से नक्सलियों (Naxals) के लेवी वसूलने की भी रणनीति चल रही है। बता दें कि पिछले दिनों गोमिया थाना क्षेत्र की सीमा और जागेश्वर बिहार थाना से सटे कहरा झरना के निकट नक्सलियों ने सड़क निर्माण में लगी एक कंपनी के मुंशी रमेश मांझी को गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके अलावा निर्माण कार्य में लगे जेसीबी और ट्रैक्टर को भी आग के हवाले कर दिया था। नक्सलियों की धरपकड़ के लिए पुलिस लगातार सर्च अभियान चला रही है।

पढ़ें: लेवी नहीं मिलने पर हाइवा जलाने की कर रहा था प्लानिंग, JJMP का शातिर नक्सली धराया

यह भी पढ़ें