Jharkhand: बोकारो में नक्सलियों की बड़ी साजिश नाकाम, 20 किलो का केन बम बरामद

झारखंड (Jharkhand) में पुलिस और सीआरपीएफ CRPF द्वारा नक्सलियों (Naxals) के खात्मे को लेकर अभियान तेज कर दिया गया है। राज्य में नक्सलवाद (Naxalism) पर लगातार प्रहार किया जा रहा है।

Naxalites

सांकेतिक तस्वीर।

झारखंड (Jharkhand) में पुलिस और सीआरपीएफ CRPF द्वारा नक्सलियों (Naxals) के खात्मे को लेकर अभियान तेज कर दिया गया है। राज्य में नक्सलवाद (Naxalism) पर लगातार प्रहार किया जा रहा है। जवानों द्वारा चलाए जा रहे अभियान से नक्सली (Naxalites) बौखलाहट में हैं और बौखलाहट में आकर वे कायराना हरकतों को अंजाम दे रहे हैं।

ताजा घटना राज्य के बोकारो जिले की है। जिले के बेरमो अनुमंडल के नारायणपुर के मार्ग पर स्थित एक पुलिया को उड़ाने की साजिश नक्सलियों (Naxals) ने की थी। हालांकि, सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के इस नापाक मंसूबे पर पानी फेर दिया। जवानों की सतर्कता की वजह से समय रहते विस्फोटक को पुलिया के नीचे से हटा लिया गया, जिससे एक बड़ा हादसा टल गया।

देशभर के किसानों को केंद्र सरकार की सौगात, गन्ने के न्यूनतम खरीद रेट में की गई बढ़ोतरी

जानकारी के मुताबिक, पुलिस को लगातार सूचना मिल रही थी कि नक्सलियों (Naxalites) ने इलाके में पुलियों के नीचे केन बम लगा रखा है। इसी कड़ी में 14 अगस्त को खुफिया सूचना मिली कि नक्सलियों ने अति नक्सल प्रभावित डेगागढ़ा बंशी सड़क मार्ग के हरलाडीह मोड़ पर स्थित पुलिया के नीचे केन बम लगा रखा है।

इस सूचना के आधार पर नावाडीह एवं नारायणपुर के नक्सल प्रभावित इलाकों में सीआरपीएफ एवं बोकारो पुलिस के द्वारा संयुक्त रूप से सर्च अभियान चलाया गया। इस दौरान पुलिस ने पुलिया के नीचे लगाए गए 20 किलो का एक केन बम बरामद किया।

राजीव गांंधी जयंती: आधुनिक भारत के इस शिल्पकार ने ही देश को कंप्यूटर और 18 साल की उम्र में मतदान का अधिकार दिया

बरामद केन बम को सीआरपीएफ ने बम निरोधक दस्ते की सहायता से तत्काल डिफ्यूज कर दिया। सीआरपीएफ की 26वीं बटालियन और पेंक नारायणपुर थाना पुलिस की संयुक्त टीम ने नक्सलियों के खिलाफ यह कामयाबी हासिल की। यह घटना 14 अगस्त दोपहर लगभग ढाई बजे की है।

यह भी देखें-

बता दें कि नावाडीह प्रखंड के पेंक नारायणपुर थाना क्षेत्र में पिछले दिनों भाकपा नक्सलियों (Naxals) के शहीद सप्ताह के दौरान काफी चहलकदमी देखी गई। नक्सली लगातार ऊपरघाट के नक्सल प्रभावित जंगली क्षेत्रों में सक्रिय होने की कोशिश कर रहे थे। इसके बाद से पुलिस और भी चौकन्नी हो गई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें