झारखंड-बिहार की सीमा पर बढ़ी नक्सलियों की सक्रियता, पुलिस प्रशासन सतर्क

गिरिडीह जिले के भेलवाघाटी थाना के चिरुडीह और कुलमुंगरी गांव के आसपास वडनेर नदी पर करोड़ों रुपए की लागत से बन रहे दो अलग-अलग पुल के निर्माण कार्य में लगे मजदूरों के साथ नक्सलियों (Naxalites) ने मारपीट की है।

Naxals

झारखंड-बिहार बॉर्डर एरिया पर फिर से नक्सलियों की गतिविधियां बढ़ने लगी हैं।

झारखंड (Jharkhand) के गिरिडीह जिले में नक्सलियों (Naxals) की काली करतूत फिर सामने आई है। जिले के भेलवाघाटी थाना के चिरुडीह और कुलमुंगरी गांव के आसपास वडनेर नदी पर करोड़ों रुपए की लागत से बन रहे दो अलग-अलग पुल के निर्माण कार्य में लगे मजदूरों के साथ नक्सलियों (Naxalites) ने मारपीट की है। इस घटना से ग्रामीणों में दहशत का माहौल है।

आशंका जताई जा रही है कि झारखंड-बिहार बॉर्डर एरिया पर फिर से नक्सलियों की गतिविधियां बढ़ने लगी हैं। पहली बार इलाके में नक्सलियों (Naxals) के थिंक टैंक माने जाने वाले हार्डकोर नक्सली नेता अरविंद यादव उर्फ अविनाश की सक्रियता देखी जा रही है। जानकारी के मुताबिक, पिछले 4 दिनों में नक्सली प्रवक्ता अरविंद उर्फ अविनाश अपने दस्ते के साथ बॉर्डर के आस-पास के इलाकों में घूम रहा है।

Covid-19: भारत में कोरोना के मामले 1 लाख 45 हजार पार, पिछले 24 घंटों में गई 146 लोगों की जान

सूत्रों की मानें तो वर्तमान में अरविंद उर्फ अविनाश और पिंटू राणा का दस्ता एक साथ सीमाई क्षेत्रों में भ्रमण कर रहा है। इधर, नक्सलियों की बढ़ी सक्रियता से इलाके के लोगों में दहशत है। लोगों में चर्चा है कि लेवी वसूलने में कमजोर पड़ रहे नक्सलियों को मजबूती प्रदान करने के लिए हैं अरविंद पूर्व अविनाश इलाके में आया हुआ है। साथ ही पिंटू राणा और अरविंद का दस्ता एक साथ घूम रहा है।

दोनों दस्ते ने मजदूरों के साथ मारपीट कर अपनी मंशा जता दी है। बताया जा रहा है कि झारखंड बिहार की सीमा से सटे भेलवाघाटी थाना इलाके में इन दिनों से कुलमुंगरी, चिरुडीह में नदी पर बाघमारी के ढाबा नाला पर 1 किलोमीटर के एरिया में 3 पुल का निर्माण कार्य चल रहा है। जानकारों की मानें तो नक्सलियों (Naxals) ने मजदूरों के साथ मारपीट के दौरान लेवी के रूप में मोटी रकम की मांग की है।

ये तो हद ही हो गई, चीन-पाक-नेपाल के बाद अब संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी FAO ने जारी किया भारत का गलत नक्शा

संभवत: लेवी को लेकर दबाव बनाने के लिए ही अरविंद और पिंटू के दस्ते ने मजदूरों के साथ मारपीट की है। इधर, मजदूरों के साथ मारपीट के बाद नक्सली दस्ते के बिहार के चकाई थाना इलाके में प्रवेश किए जाने की सूचना है। 25 मई को चकाई थाना क्षेत्र के अनुकूल और दुबेडीह जंगल के पीछे देखे जाने की चर्चा है।

सीमांचल क्षेत्र में नक्सलियों के सक्रिय रहने की सूचना पर गिरिडीह और जमुई की पुलिस (Police) तथा सीआरपीएफ (CRPF) के अधिकारियों की सक्रियता बढ़ गई है। सीआरपीएफ बटालियन के सहायक कमांडेंट राधेश्याम मीणा के अनुसार, 25 मई को बाघमारी एवं स्थानीय लोगों से पूछताछ कर मारपीट एवं उनकी गतिविधियों की जानकारी ली गई है।

26 मई 2014: आज ही के दिन गुजरात का एक चायवाला बना देश का 15वां प्रधानमंत्री

घटना के बाद मजदूरों के बयान पर पुलिस ने नक्सली पिंटू राणा, स्थानीय नक्सली राकेश, तालों, साहेब, ताहिर, अकबर और असगर के खिलाफ भेलवाघाटी थाना में मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। इधर, मारपीट की घटना को देखते हुए भेलवाघाटी पुलिस पुल निर्माण कार्य मे लगे मजदूरों को कुलमुरगी गांव से हटाकर भेलवाघाटी ले आई है।

बता दें कि भेलवाघाटी थाना क्षेत्र के गुनियाथर पंचायत के चिरूडीह और बाघमारी गांव के बीच तथा कुलमुंगरी और बेलाटांड़ गांव के बीच पुल बन रहा है। नक्सलियों (Naxals) द्वारा की गई इस मारपीट के बाद पुल का निर्माण कार्य बंद हो जाने से ग्रामीणों में मायूसी है। स्थानीय ग्रामीणों ने पुल का निर्माण कार्य बरसात के पहले पूरा करवाने की मांग की है।

गांव वालों का कहना है कि पुल बन जाने से झारखंड-बिहार की सीमा पर बसे गुनियाथर पंचायत के कुल मुंगरी, बाघमारी, चिरुडीह, वाघमारी, भतुवकुरह, तेतरिया लोका, चकाई थाना क्षेत्र के रखाटोला, मंझिलडीह, राजा घूमर, गरुड़बाद, कोकहरा, मंगराकुरहा समेत ढाई दर्जन गांव के ग्रामीणों को आवागमन में सुविधा हो जाएगी। तेज बारिश में नदी का जलस्तर बढ़ जाने से आने जाने में परेशानी होती है। बरसात आने में कुछ ही दिन शेष रह गए हैं। ग्रामीणों को उम्मीद थी कि बरसात के पहले कार्य पूरा हो जाता है तो आवागमन की सुविधा हो जाएगी।

यह भी पढ़ें