बंगाल बॉर्डर के रास्ते झारखंड में घुसा खूंखार नक्सलियों का दस्ता! पुलिस प्रशासन अलर्ट पर

बंगाल और झारखंड की सीमा पर स्थित दुमका एवं पाकुड़ जिले के रास्ते लगभग 30 खूंखार नक्सलियों (Naxals) के एक दल के झारखंड में प्रवेश होने की सूचना से झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) अर्लट हो गई है

Naxals

बंगाल और झारखंड की सीमा के रास्ते खूंखार नक्सलियों के दल के झारखंड में प्रवेश होने की सूचना मिली है। (सांकेतिक तस्वीर)

बंगाल और झारखंड की सीमा पर स्थित दुमका एवं पाकुड़ जिले के रास्ते लगभग 30 खूंखार नक्सलियों (Naxals) के एक दल के झारखंड में प्रवेश होने की सूचना से झारखंड पुलिस (Jharkhand Police) अर्लट हो गई है। दुमका सहित पड़ोसी जिले पाकुड़ में भी पुलिस ने सर्च अभियान तेज कर दिया है। आस-पास के इलाकों में एलर्ट जारी हो गए हैं।

दरअसल, ग्रामीणों द्वारा पुलिस को सूचना दी गई थी कि रात के अंधेरे में कुछ खूंखार नक्सली (Naxali) जो आधुनिक हथियार से लैस थे, पाकुड़ के अमड़ापाड़ा गांव में कुछ देर के लिए रुके हुए थे। गांव वालों के इस बात की पुलिस वेरिफिकेसन भी हो गई है। दुमका एसपी अंबर लाकड़ा ने इसकी पुष्टि की है।

कोरोना की आड़ में भारत को चौतरफा घेरने की फिराक में चीन, नेपाल-पाकिस्तान को बनाया अपना मोहरा

दुमका एसपी ने बताया कि नक्सलियों (Naxalites) के घुसने की सूचना मिली है। जिसके बाद से इलाके में पुलिस ने अपनी सतर्कता बढ़ा दी है। बंगाल की सीमा से नक्सलियों के घुसने की सूचना पर जानकारी देते हुए दुमका एसपी अंबर लाकड़ा ने बताया कि अमड़ापाड़ा में सुरक्षाबलों के पिकेट से 18 मई की रात यह जानकारी मिली थी।

इसके बाद नक्सलियों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन चलाया गया तथा सभी थानेदारों को अपने-अपने थाना क्षेत्रों में अलर्ट रहने को कहा गया है। इलाके में सर्च अभियान चलाया जा रहा है। लॉकडाउन और पुलिस के द्वारा नक्सलियों (Naxals) के खिलाफ लगातार चलाए जा रहे अभियान की वजह से बौखलाहट बढ़ गई है।

लॉकडाउन का व्यापक असर अब नक्सल प्रभावित इलाकों में देखने को मिल रहा है। सड़क परिवहन बंद होने के कारण नक्सलियों को रोजमर्रा की वस्तुएं नहीं मिल पा रही हैं। इसके अलावा अफीम की खेती का कारोबार भी ठप हो गया है। राज्यों में निर्माण स्थलों और इंडस्ट्री से जो अवैध वसूली होती थी, वह भी अब बंद हो गई है। खाने-पीने के सामान और पैसे की सप्लाई चेन टूट चुकी है। ऐसे में नक्सली संगठनों (Naxal Organization) के द्वारा लेवी के लिए वाहनों में आगजनी कर दहशत फैलाने का काम किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें