झारखंड: रांची के ग्रामीण इलाकों में छिप कर रह रहे हैं नक्सली, पुलिस ने पिछले 10 महीने में कई नक्सलियों को दबोचा

झारखंड में विधानसभा चुनाव सिर पर आ गए हैं। ऐसे में, प्रशासन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है नक्सलियों को चुनाव से दूर रखना। दरअसल, नक्सली हमेशा से ही चुनाव प्रक्रिया का विरोध करते रहे हैं और अपने वर्चस्व वाले इलाकों में चुनाव के दौरान हिंसा फैलाते रहे हैं। हालांकि, पिछले कुछ सालों में नक्सलियों के खिलाफ प्रशासन की कठोर कार्रवाई के चलते उनकी धार जरूर कुंद हो गई है।

Jharkhand naxal
झारखंड: विधानसभा चुनाव के चलते पुलिस ने बढ़ाई सख्ती।

झारखंड की राजधानी रांची के ग्रामीण इलाकों में कई माओवादी संगठन इन दिनों काफी सक्रिय हैं। इन इलाकों में टीपीसी, पीएलएफआई के उग्रवादी हर वक्त किसी हिंसा की साजिश रचने की फिराक में लगे रहते हैं। लेकिन राजधानी के ग्रामीण इलाकों में नक्सलियों के नापाक मंसूबों को खत्म करने के लिए पुलिस कितनी मुस्तैद है इसका अंदाजा अब इस बात से लगा सकते हैं कि पिछले 10 महीनों में रांची पुलिस ने यहां से 34 नक्सलियों को गिरफ्तार किया है।

रांची के किन इलाकों में नक्सलियों की सक्रियता ज्यादा है? यह हम आपको आगे बताएंगे लेकिन उससे पहले आप यह जान लीजिए कि पुलिस की कार्रवाई में किन अहम नक्सलियों को पकड़ा गया है।

21 अक्टूबर, 2019: रांची के तुपुदाना स्थित भारत सेवा आश्रम में खुद को अनाथ बताकर रह रहे माओवादी लालजीत गंझू को हजारीबाग की केरेडारी पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार किया।

29 अगस्त, 2019: नामकुम थाना क्षेत्र से नक्सली प्रशांत ठाकुर गिरफ्तार।

29 अगस्त, 2019: तुपुदाना पुलिस ने पुराना हुलहुंडू स्थित एक क्रशर के पास किराये के एक घर में मजदूर बनकर रह रहे पीएलएफआइ के तीन उग्रवादियों की सूचना मिलने पर छापेमारी कीथ थी। पुलिस ने यहां से एक उग्रवादी सदानंद सिंह मुंडा उर्फ सदाई सिंह मुंडा को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की थी।

7 अगस्त, 2019: रांची पुलिस द्वारा तुपुदाना से एक लाख के इनामी एरिया कमांडर सहित तीन पीएलएफआइ उग्रवादियों को गिरफ्तार किया था।

27 जुलाई, 2019: राजधानी रांची के तुपुदाना ओपी क्षेत्र से लेवी लेने आए पीएलएफआइ के चार उग्रवादियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था। गिरफ्तार उग्रवादियों में प्रेम सिंह, सनातन होरो, समीर धनवार और सुरेश मुंडा शामिल थे।

25 फरवरी, 2019: इन सभी के अलावा पंडरा ओपी क्षेत्र के चटकपुर से 10 लाख रुपये के इनामी नक्सली संतोष यादव उर्फ टाइगर को पुलिस ने उसके घर से गिरफ्तार किया था।

15 फरवरी, 2019: छत्तीसगढ़ की बलरामपुर जिले की पुलिस की एक टीम ने रांची के नामकुम से समाजवादी पार्टी के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष केश्वर यादव उर्फ रंजन यादव को गिरफ्तार कर लिया। केश्वर मूल रूप से पलामू के पांकी के रहने वाला है और नामकुम में अपना मकान बनाकर रह रहा था।

7 फरवरी, 2019: तुपुदाना ओपी क्षेत्र के हजाम गांव के पास पीएलएफआइ के पूर्व एरिया कमांडर और अन्य अपराधियों को हथियार खरीद-बिक्री करते हुए रांची पुलिस ने पकड़ा था।

इन क्षेत्रों में सक्रिय हैं नक्सली:
रांची के बुंडू और तमाड़ क्षेत्र में जहां भाकपा माओवादी सक्रिय हैं तो वहीं खलारी क्षेत्र में टीपीसी के उग्रवादी सक्रिय हैं। इसके अलावा रांची के कांके, तमाड़, बेड़ो और लापुंग में पीएलएफआइ के उग्रवादी सक्रिय हैं। बहरहाल खूंखार नक्सलियों पर कार्रवाई के अलावा पुलिस की नजर उन लोगों पर भी है जो चोरी-छिपे इन नक्सलियों की मदद करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here