जम्मू-कश्मीर: त्राल में सुरक्षाबलों ने एक आतंकी को मार गिराया, जारी है ऑपरेशन ऑल आउट

एक खुफिया इनपुट पर अवंतीपोरा में त्राल के वन क्षेत्र ब्रानपथरी में पुलिस और 42 राष्ट्रीय राइफल्स के सैनिकों द्वारा संयुक्त रूप से सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया था।

Jammu Kashmir, Pulwama, Tral, Nagbal, Forest, security forces, terrorist, Encounter,Jammu Kashmir encounter, Tral encounter, Tral, terrorists, security forces, Pulwama, sirf Sach, sirfsach.in

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले केत्राल इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ में एक आतंकवादी ढेर हो गया

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले के त्राल इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ में एक आतंकवादी ढेर हो गया। त्राल के ब्रानपथरी वन क्षेत्र में 26 जून तड़के सुरक्षाबलों ने 2-3 आतंकियों को घेर लिया। दोनों ओर से कई घंटों तक फायरिंग चली। फायरिंग बंद होने के बाद सुरक्षाबलों की ओर से सर्च ऑपरेशन चलाया गया, जिसमें एक आतंकी का शव मिला। मारे गए आतंकवादी की पहचान की जा रही है। मुठभेड़ स्थल से हथियार और गोला-बारूद भी बरामद हुआ है। जम्मू-कश्मीर पुलिस के मुताबिक, एक खुफिया इनपुट पर अवंतीपोरा में त्राल के वन क्षेत्र ब्रानपथरी में पुलिस और 42 राष्ट्रीय राइफल्स के सैनिकों द्वारा संयुक्त रूप से सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया था।

सर्च ऑपरेशन के दौरान, छिपे हुए आतंकवादियों ने सुरक्षाबलों पर गोलीबारी की। सेना के जवानों ने जवाबी फायरिंग की, जिसमें एक आतंकी ढेर हो गया। त्राल के जंगलों में और आतंकियों के छिपे होने की आशंका है। फिलहाल पूरे इलाके में सुरक्षाबलों का सर्च ऑपरेशन जारी है। इससे पहले, 23 जून को जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई थी, जिसमें सुरक्षाबलों ने 4 आतंकवादियों को ढेर कर दिया था। दक्षिण कश्मीर के दारमदोरा कीगम इलाके में हुई इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देते हुए उनकी घेराबंदी की।

सुरक्षाबलों ने इस दौरान आतंकवादियों के ठिकाने को उड़ा दिया। एनकाउंटर के दौरान दो आतंकियों के मारे जाने की सूचना थी। हालांकि, बाद में सुरक्षाबलों ने सर्च ऑपरेशन के दौरान दो और आतंकियों के शव बरामद किए गए। इसके साथ ही मुठभेड़ वाले इलाके से भारी मात्रा में गोला-बारूद और हथियार बरामद किए गए।

गौरतलब है कि सुरक्षाबल आतंकियों का सफाया करने के लिए एक्शन में हैं। सुरक्षाबलों द्वारा लगातार हो रही कार्रवाई से आतंकी बौखलाए हुए हैं। हमारे जवान ऑपरेशन ऑलआउट के तहत आतंकियों को चुन-चुन कर खत्म कर रहे हैं। इस साल 16 जून तक 113 आतंकियों को मारा जा चुका है। वहीं, बीते तीन साल में 733 आतंकी मारे गए थे। 25 जून को लोकसभा में पेश किए गए आंकड़ों में बताया गया कि 2018 में सुरक्षा बलों ने 257 आतंकियों को मार गिराया था, जबकि 2017 में 213 और 2016 में 150 आतंकियों मारे गए थे। सुरक्षा बलों को इस साल सबसे बड़ी सफलता 23 मई को मिली थी, जब जाकिर मूसा को एक मुठभेड़ में मार गिराया गया था।

जाकिर मूसा को कश्मीर के त्राल में ही हुई एक मुठभेड़ में मार गिराया गया था। मूसा हिजबुल कमांडर बुरहान वानी का करीबी था। बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में जाकिर मूसा ही आतंक का चेहरा था। आतंकी जाकिर मूसा 2017 से पहले हिज्बुल मुजाहिद्दीन के साथ जुड़ा था। लेकिन कुछ दिनों बाद उसने इस आतंकी संगठन से रिश्ता तोड़ अपना संगठन अंसार गजवात उल हिंद बना लिया। जाकिर मूसा खुद को कुख्यात आतंकी ओसामा बिन लादेन का गुर्गा बताने लगा। सुरक्षा एजेंसियों को लंबे समय से उसकी तलाश थी। मूसा पर 20 लाख का इनाम था।

पढ़ें: जब अदालत ने इंदिरा गांधी को 6 साल के लिए राजनीति से कर दिया था बेदखल

यह भी पढ़ें