जम्मू-कश्मीर: शोपियां में सुरक्षाबलों ने किया आतंकी ठिकाने का भंडाफोड़, सोपोर एनकाउंटर में दो आतंकी ढेर; बडगाम में लश्कर के आतंकी मॉड्यूल का पर्दाफाश

जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद (Terrorism) के सफाए के लिए सुरक्षाबलों द्वारा लगातार ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इन सभी ऑपरेशनों में सुरक्षाबलों को काफी हद तक सफलता मिल रही है।

Terrorism

शोपियां में आतंकी ठिकाने का भंडाफोड़।

घाटी में आतंकवाद (Terrorism) के सफाए के लिए सुरक्षाबलों द्वारा लगातार ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इन सभी ऑपरेशनों में सुरक्षाबलों को काफी हद तक सफलता मिल रही है। इसी क्रम में सुरक्षाबलों ने शोपियां जिले के यारवान क्षेत्र में आतंकी ठिकाने (Terrorist Hideout) का भंडाफोड़ किया है। इस ऑपरेशन को सेना की 62 राष्ट्रीय राइफल्स और शोपियां पुलिस ने अंजाम दिया। आतंकी ठिकाने से जवानों ने हथियार और गोलाबारूद के साथ ही अन्य आपत्तिजनक वस्तुएं भी बरामद की।

सोपोर में एनकाउंटर: उधर, जम्मू-कश्मीर के सोपोर में हुई एनकाउंटर (Encounter) में दो आतंकियों (Terrorists) को ढेर कर दिया गया। मारे गए आतंकियों के पास से दो एके-47 बरामद हुई हैं। जानकारी के मुताबिक, इलाके में दो से तीन आतंकियों के छिपे होने की खबर पर सोपोर पुलिस, 22 आरआर और सीआरपीएफ की ज्वॉइंट टीम ने ऑपरेशन लॉन्च किया था। एहतियातन इलाके में इंटरनेट सेवा बंद कर दिया गया है।

झारखंड: लोहरदगा में PLFI का हार्डकोर नक्सली गिरफ्तार, बलात्कार के मामले में जा चुका है जेल

बडगाम में आतंकी मॉड्यूल का पर्दाफाश: इसके अलावा, बडगाम में सुरक्षाबलों ने 25 जून को ही लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) के आतंकी मॉड्यूल का पर्दाफाश किया। जिसमें आतंकियों के पांच मददगार (Terrorist Associates) गिरफ्तार किए गए। इनके पास से गोला-बारूद और कई आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद हुई हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

आतंकियों के इन मददगारों की गिरफ्तारी के बाद कई अहम खुलासे होने की भी संभावना है। जानकारी के अनुसार, पुलिस को सूचना मिली थी कि नरबल इलाके में आतंकियों के मददगार मौजूद हैं। इसी सूचना के आधार पर पुलिस और सेना की 2-राष्ट्रीय राइफल्स ने तलाशी अभियान शुरू किया। इस दौरान आतंकियों के पांच मददगारों को गिरफ्तार करने में सफलता मिली।

इनके पास से एके-47 के 28 कारतूस, एके-47 की एक मगजीन और लश्कर-ए-तैयबा के 20 पोस्टर मिले हैं। इसके साथ ही कई आपत्तिजनक वस्तुएं भी बरामद हुई हैं। पकड़े गए आतंकी सहयोगियों की पहचान इमरान राशिद, इफ्शान अहमद गनई, ओवैस अहमद, मोहसिन कादिर और आबिद राथर के रूप में हुई है। यह समूह आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के सक्रिय आतंकवादियों को रसद, समर्थन और आश्रय मुहैया कराने का काम करते थे।