भारतीय सेना ने दो पाकिस्तानी आतंकियों को किया गिरफ्तार, सीमा पर घुसपैठ की कर रहे थे कोशिश

भारतीय सेना ने दो पाकिस्तानी आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। इन दोनों को उस वक्त गिरफ्तार किया गया, जब वे नियंत्रण रेखा से जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे।

जम्मू-कश्मीर, आतंकी, अनुच्छेद 370, पाकिस्तानी घुसपैठिए, पाकिस्तानी आतंकी, कश्मीर में आतंकी, सिर्फ सच, Pakistani terrorists, Pakistani terrorist, Pakistan, LoC, jammu-kashmir, Indian Army, Srinagar, article 370, sirf sach, sirfsach.in

भारतीय सेना ने दो पाकिस्तानी आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है।

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाए जाने के बाद से वहां सेना पूरी तरह अलर्ट पर है। इसी बीच सेना को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। भारतीय सेना (Indian Army) ने दो पाकिस्तानी आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। इन दोनों को उस वक्त गिरफ्तार किया गया, जब वे नियंत्रण रेखा से जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की कोशिश कर रहे थे।

अधिकारियों ने 2 सितंबर को यह जानकारी दी। अधिकारियों के मुताबिक, नाजनीन खोखर (25) और खलील अहमद कयानी (36) को पिछले हफ्ते गुलमर्ग की ऊपरी इलाके से सेना के जवानों ने पकड़ा था। उन्होंने बताया कि अभी दोनों आतंकियों से पूछताछ की जा रही है। इससे पहले जम्मू-कश्मीर के बारामूला में सुरक्षाबलों ने एक आतंकवादी को गिरफ्तार किया था। सुरक्षाबलों और पुलिस के संयुक्त अभियान में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी को पकड़ा गया था।

एयर चीफ मार्शल ने विंग कमांडर अभिनंदन के साथ भरी आखिरी उड़ान

पुलिस के मुताबिक, पकड़े गए आतंकी का नाम मोहम्मद इकबाल है। वह बारामूला का ही रहने वाला है। उसके पास से हथियार भी बरामद हुए। गौरतलब है कि हाल ही में जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल के सलाहकार फारूक खान ने घाटी में तेजी से स्थिति सामान्य होने की जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि घाटी में आतंकियों की संख्या 5 गुना कम हुई है। खान के मुताबिक, पहले जहां आतंकवादियों की संख्या हजारों में थी, अब वह घटकर करीब 200 ही रह गई है।

उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा था कि बचे हुए आतंकवादी या तो जेल जाएंगे या फिर नतीजे भुगतने के लिए तैयार रहें। 1990 के दौर में घाटी में उग्रवाद की कमर तोड़ने वाले फारूक ने कहा, ‘आतंकवाद के खिलाफ जंग में पिछले 3 दशकों में स्थानीय लोगों का बहुत सहयोग रहा है। वे हमारे आंख और कान बने रहे। उन्हें पता रहता है कि कहां पर क्या होने वाला है। पहले घाटी में सक्रिय आतंकवादियों की संख्या एक हजार के लगभग थी, जो कि घटकर 150 से 200 के बीच ही रह गई है।’

पढ़ें: आसमान में गरजेंगे भारतीय वायुसेना के अपाचे, दुश्मन के छूट जाएंगे पसीने

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें