जम्मू कश्मीर: सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, दो अलग-अलग मुठभेड़ में 4 आतंकी ढेर

पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार आतंकवादी शकूर फारूक इस साल 20 मई को सूरा इलाके में बीएसएफ के दो जवानों की हत्या में शामिल था, जिनमें से एक जवान से छीनी गई एके राइफल भी मुठभेड़ स्थल से बरामद हुई है।

Militants

Jammu Kashmir: 4 Militants killed in Encounter

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के श्रीनगर और कुलगाम जिलों में पिछले 24 घंटे के दौरान सुरक्षा बलों के साथ दो मुठभेड़ों में एक पाकिस्तानी नागरिक समेत चार आतंकवादी (Militants) मारे गए। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मारे गए आतंकवादियों में शकूर फारूक लैंगू भी शामिल हैं। इसी के साथ इस साल जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों के हाथों मारे गये आतंकियों की संख्या 107 पहुंच गई है।

पाक ने रची दिल्ली को दहलाने की आतंकी साजिश, जैश और लश्कर के आतंकियों को ISI ने सौंपी जिम्मेदारी

पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार आतंकवादी शकूर फारूक हिजबुल मुजाहिदीन का सदस्य था और वह इस साल रमजान के दौरान 20 मई को सूरा इलाके में बीएसएफ के दो जवानों की हत्या में शामिल था, जिनमें से एक जवान से छीनी गई एके राइफल भी मुठभेड स्थल से बरामद हुई है।

इस मुठभेड़ में मारा गये दूसरे आतंकी की पहचान डॉ हिलाल अहमद के रूप में हुई है। ये आतंकी श्रीनगर के बेमिना कॉलेज से पीएडी स्कॉलर है और कुछ सप्ताह पहले ही अचानक गंडेरबल जिले के नारंग इलाके में ट्रेकिंग के दौरान गायब हो गया था। वहीं तीसरे आतंकी की पहचान जैश-ए-मोहम्मद का सदस्य शाहिद अहमद भट्ट है जो समथान बिजबेहरा का रहने वाला है। 

 

अधिकारी ने कहा कि श्रीनगर जिले के जूनिमार इलाके में आतंकवादियों (Militants) की मौजूदगी की खुफिया जानकारी के आधार पर पुलिस और सीआरपीएफ (CRPF) ने संयुक्त रूप से घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया।

सुरक्षाबलों को मिली खूफिया जानकारी के बाद पुलिस और सीआरपीएफ ने श्रीनगर के एक घर की घेराबंदी कर ली। साथ ही इलाके  के सम्मानित लोगों को बुलाकर आतंकियों (Militants) से सरेंडर करने की अपील भी की गई। लेकिन जब आतंकवादी नहीं माने तो सुरक्षाबलों के जवानों ने कार्रवाई शुरू की और तीन को मार गिराया।