पाकिस्तान की पोल खोल रहे पकड़े गए आतंकवादी, 5 साल में जिंदा पकड़े गए 747 आतंकी

jammu-kashmir, Militancy in Jammu Kashmir, militant attack in Jammu Kashmir, militants groups in Jammu Kashmir, security alert in Jammu Kashmir, 747 terrorists caught alive in five years by security forces in Jammu Kashmir, पाकिस्तान, आतंकी, आतंकवादी, पाक की घिनौनी सच्चाई उजागर कर रहे पकड़े गए आतंकी, पांच वर्षों में 747 आतंकी जिंदा पकड़े, सिर्फ सच
पाकिस्तान की घिनौनी सच्चाई उसके ही आतंकी उजागर कर रहे हैं।

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान अंतराष्ट्रीय स्तर पर समर्थन जुटाने की पूरी कोशिश में है। इसके साथ ही वह घाटी में अशांति फैलाने की भी पूरी कोशिश कर रहा है, ताकि दुनिया को दिखा सके कि वहां हिंसा हो रही है। पर पाकिस्तान की घिनौनी सच्चाई उसके ही आतंकी उजागर कर रहे हैं। ये आतंकी पकड़े जाने के बाद पूछताछ के दौरान पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले सच पर से पर्दा उठा रहे हैं। दरअसल, इस साल सेना, सुरक्षाबलों और जम्मू कश्मीर पुलिस के जवानों ने पाकिस्तान की ओर से भेजे गए 151 आतंकियों और उनके ओवर ग्राउंड वर्करों (ओजीडब्ल्यू) को जम्मू कश्मीर से जिंदा पकड़ा है।

इमरान खान का झूठा दावा, सोशल मीडिया पर उड़ रहा मजाक

पूछ-ताछ में इन आतंकियों ने कुबूल किया कि पाकिस्तान की सेना, खुफिया एजेंसी आइएसआइ आतंकियों को प्रशिक्षित कर बड़ी वारदात करने के लिए इन्हें भेज रही है। पाक सेना अफगानी व पठान आतंकियों को भी इस ओर घकेलने की फिराक में है। सूत्रों के मुताबिक, साल 2015 से लेकर अब तक सेना और सुरक्षाबलों ने 747 आतंकियों और उनके सहयोगियों को पकड़ा है। पांच साल के दौरान जम्मू कश्मीर में 26 आतंकियों ने आत्मसमर्पण किया है। वहीं, साल 2019 में अब तक 8 आतंकी सेना और सुरक्षाबलों के सामने आत्मसमर्पण कर चुके हैं। अधिकतर आतंकियों और उनके ओजीडब्ल्यू को वारदात को अंजाम देने से पहले ही पकड़ लिया गया।

पढ़ें: इमरान खान ने कबूला- पाकिस्तान ने बनाए जेहादी, जम्मू-कश्मीर पर नहीं सुनी तो अमेरिका पर बरसे

12 सितंबर को भी पंजाब बॉर्डर पर हथियारों के साथ पकड़े गए आतंकी भी कोई बड़ी वारदात करने की मंशा से इतनी बड़ी संख्या में हथियार लेकर आ रहे। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद पाकिस्तान कोई बड़ी वारदात करने की फिराक में है। यह खुलासा 4 अगस्त के बाद पकड़े गए 15 आतंकियों ने भी किया है। इस समय घाटी में आतंकियों के खिलाफ बड़े पैमाने पर कार्रवाई की जा रही है। इस साल 165 आतंकवादी घटनाएं हुई हैं, जिनमें 138 आतंकी मारे गए हैं। 5 अगस्त के बाद कश्मीर में हुई दो आतंकी मुठभेड़ों के दौरान सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को मार गिराया है।

अंग्रेजों के जुल्मों के खिलाफ जेल में शहीद होने वाला देश का पहला अनशनकारी

सेवानिवृत ब्रिगेडियर अनिल गुप्ता के मुताबिक, पाकिस्तान की पूरी कोशिश है कि वह कश्मीर के हालात खराब करने के लिए लोगों को भड़काए। ऐसे में उसकी कोशिश है कि राज्य में कोई बड़ी वारदात हो, जिससे वह संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार परिषद की बैठक में कश्मीर मुद्दे को जोरशोर से उठा सके। उन्होंने कहा कि लोगों पर हमले कर रहे पाकिस्तान की असलियत अब कश्मीर के लोग भी जान चुके हैं। गौरतलब है कि पाकिस्तान खुद आतंकवाद को पाल रहा है। लेकिन विश्व समुदाय के सामने वह इस बात से हमेशा पल्ला झाड़ता रहता है।

पढ़ें: पाकिस्तान में पलने वाले कई संगठनों के 20 से अधिक सदस्य वैश्विक आंतकी घोषित, अमेरिका के कदम से भारत के दावों को मिली मजबूती

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here