अक्षरधाम आतंकी हमले का मास्टर माइंड गिरफ्तार, दो कमांडो समेत 31 लोगों की हुई थी मौत

एटीएस के मुताबिक, अक्षरधाम हमले की साजिश में भट की अहम भूमिका थी। उसने यूपी से अहमदाबाद आए अन्य आरोपियों को एके-47 राइफल समेत कई हथियार व गोला बारूद मुहैया कराया था।

Akshardham, akshardham temple, akshardham mandir, ats, akshardham attack, yasin bhat, arrest, anantnag,jammu kashmir, sirf sach, sirfsach.in

गुजरात एटीएस ने अक्षरधाम हमले के मुख्य साजिशकर्ता मोहम्मद यासीन भट को जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग से लिया।

गुजरात एटीएस ने अक्षरधाम हमले के मुख्य साजिशकर्ता मोहम्मद यासीन भट को जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग से गिरफ्तार कर लिया है। कथित तौर पर लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ा भट हमले के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर भाग गया था। 24 सितंबर, 2002 को अक्षरधाम मंदिर परिसर में दो आतंकियों ने गोलीबारी की थी, जिसमें एनएसजी के दो कमांडो समेत 31 लोगों की मौत हो गई थी। गुजरात गृह विभाग ने बताया कि गुप्त सूचना पर 26 जुलाई को स्थानीय पुलिस की मदद से भट को गिरफ्तार किया गया। वह पीओके से लौटकर अनंतनाग की लकड़ी की फैक्टरी में काम कर रहा था। कोर्ट से ट्रांजिट रिमांड मिलने पर एटीएस शुक्रवार शाम भट को अहमदाबाद लेकर पहुंची।

एटीएस के मुताबिक, अक्षरधाम हमले की साजिश में भट की अहम भूमिका थी। उसने यूपी से अहमदाबाद आए अन्य आरोपियों को एके-47 राइफल समेत कई हथियार व गोला बारूद मुहैया कराया था। सुप्रीम कोर्ट ने मई, 2014 में मामले में छह आरोपियों को बरी कर दिया था, इनमें से तीन को मौत की सजा सुनाई गई थी। इससे पहले जम्मू-कश्मीर के डोडा जिले के जंगलों में चलाए गए एक संयुक्त अभियान में लश्कर-ए-तैयबा का एक आतंकी को गिरफ्तार किया गया था।

पढ़ें: कभी सुप्रीम कोर्ट का जज बनने का मिला था ऑफर, पर हंसी में उड़ा दिया

एक आधिकारिक प्रवक्ता के मुताबिक, खुफिया जानकारी के आधार पर सुरक्षाबलों ने जमाल-उद-दीन गुज्जर उर्फ अबु बकर को ठठरी इलाके के फागसू जंगल से पकड़ लिया गया। उसके पास से एक एके-47 रायफल और मैगजीन बरामद की गई। वह बीते एक साल से किश्तवाड़ में आतंकवादी गतिविधियां चला रहा था। जानकारी के मुताबिक, जिला पुलिस डोडा और भारतीय सेना की 26 राष्ट्रीय राइफल्स ने यह ज्वॉइंट ऑपरेशन चलाया था। सुरक्षाबलों को खुफिया जानकारी मिली थी कि इसी इलाके में आतंकी छिपे हुए हैं। इसके बाद सुरक्षाबलों ने संभावित जगहों को पूरी तरह से ब्लॉक कर दिया था और लोगों की आवाजाही रोक दी थी।

इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा था। इसी दौरान लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जमाल-उद-दीन गुज्जर जवानों के हत्थे चढ़ गया। तुरंत कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आतंकी को हिरासत में ले लिया। गिरफ्तार किए गए आतंकी के पास से एक एके-47 रायफल और मैगजीन बरामद की गई है। अधिकारी के अनुसार, यह आतंकी सरवन के जंगलों में हुई एक मुठभेड़ में घायल हो गया था और तब से जंगलों में ही छिप कर रह रहा था। गिरफ्तार किए गए आतंकी पर 5 लाख का इनाम था।

पढ़ें: जब बाप-बेटे की जोड़ी ने लड़ाई में पाकिस्तानियों के छुड़ा दिए छक्के….

यह भी पढ़ें