जम्मू-कश्मीर: आतंक का रास्ता छोड़ मुख्यधारा में लौट रहे भटके हुए युवा, सेना के इस प्लान से मिली सफलता

अच्छी खबर ये है कि कश्मीर में सेना का सरेंडर प्लान कामयाब हो रहा है और यहां के युवा आतंकवाद का रास्ता छोड़ वापस सामान्य जिंदगी में लौट रहे हैं।

terrorists

सांकेतिक तस्वीर।

सेना मुठभेड़ स्थल पर आतंकियों के परिजनों को बुलाकर आतंकियों से सरेंडर करने के लिए कहती है। हालही में सेना ने आतंकी (Terrorist) साकिब अकबर से इसी तरह सरेंडर करवाया था। वह बीटेक का छात्र था। पुलिस का कहना है कि उन्हें इस कार्रवाई से बेहतर परिणाम मिल रहे हैं और उम्मीद है कि आने वाले समय में और कई आतंकी सरेंडर करेंगे।

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों की ओर से आतंकियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान के तहत कई आतंकी (Terrorist) ढेर किए जा चुके हैं और कई ने सरेंडर किया है।

लेकिन अच्छी खबर ये है कि कश्मीर में सेना का सरेंडर प्लान कामयाब हो रहा है और यहां के युवा आतंकवाद का रास्ता छोड़कर वापस सामान्य जिंदगी में लौट रहे हैं।

सरेंडर प्लान के तहत आतंकियों (Terrorist) को मुठभेड़ के दौरान सरेंडर करने का मौका दिया जा रहा है, जिससे वह आम जिंदगी में लौट सकें। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है कि बीते 4 दिनों में 3 आतंकियों ने सरेंडर किया है।

अब सरेंडर करने वाले इन आतंकियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है, इसके बाद इन्हें आम जिंदगी में लौटने दिया जाएगा।

Chhattisgarh: सुकमा में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़, नक्सली कैंप ध्वस्त

सेना और पुलिस लगातार सक्रिय आतंकियों के परिजनों के संपर्क में है और आतंकियों के परिजनों को भी ये भरोसा दिलाया जा रहा है कि आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान उन्हें सरेंडर करने का मौका दिया जाएगा। सेना किसी भी ऑपरेशन के दौरान लाउडस्पीकर पर आतंकी को सरेंडर करने के लिए कह रही है।

सेना मुठभेड़ स्थल पर आतंकियों के परिजनों को बुलाकर आतंकियों से सरेंडर करने के लिए कहती है। हालही में सेना ने आतंकी साकिब अकबर से इसी तरह सरेंडर करवाया था। वह बीटेक का छात्र था।

पुलिस का कहना है कि उन्हें इस कार्रवाई से बेहतर परिणाम मिल रहे हैं और उम्मीद है कि आने वाले समय में और कई आतंकी सरेंडर करेंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें