ड्रोन के जरिए सीमा पार से लाए गए थे हथियार, बड़े हमले की थी साजिश

पंजाब में एक बड़े आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ करने के दो दिन बाद ही पंजाब पुलिस ने एक और बड़ा खुलासा किया है। दरअसल, पंजाब के तरनतारन में पिछले दिनों हुए ब्लास्ट के बाद हो रही जांच में नई जानकारी मिली है।

punjab blast, tarntaran, terrorist attack, NIA investigation, ISI, terror attack, 26/11, sirf sach, sirfsach.in

जानकारी के अनुसार पाकिस्तान की तरफ से दस बार ड्रोन भेजा गया लेकिन कम ऊंचाई पर उड़ने की वजह से इसकी जानकारी नहीं मिल सकी।

punjab blast, tarntaran, terrorist attack, NIA investigation, ISI, terror attack, 26/11, sirf sach, sirfsach.in
आईएसआई (ISI) ने ड्रोन के जरिये पंजाब में AK-47 और दूसरे हथियारों की डिलीवरी करवाई थी।

पंजाब में एक बड़े आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ करने के दो दिन बाद ही पंजाब पुलिस ने एक और बड़ा खुलासा किया है। दरअसल, पंजाब के तरनतारन में पिछले दिनों हुए ब्लास्ट के बाद हो रही जांच में नई जानकारी मिली है। पंजाब पुलिस के मुताबिक, पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई पंजाब और आसपास के राज्यों में 26/11 जैसे हमले करवाने की तैयारी में थी। इसके लिए आईएसआई ने ड्रोन के जरिये पंजाब में AK-47 और दूसरे हथियारों की डिलीवरी करवाई थी। पंजाब पुलिस के अधिकारी के मुताबिक, अब तक मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान की तरफ से दस बार ड्रोन भेजा गया लेकिन कम ऊंचाई पर उड़ने की वजह से इसकी जानकारी हमें नहीं मिल सकी।

बता दें कि पंजाब पुलिस ने कुछ दिन पहले खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स के चार सदस्यों को भी गिरफ्तार किया था। पुलिस को मिले हथियार के जखीरे के साथ पांच सेटेलाइट फोन भी मिले थे। इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि इन सेटेलाइट फोन का इस्तेमाल जम्मू-कश्मीर में होना था जहां बीते डेढ़ महीने से ज्यादा समय से मोबाइल और इंटरनेट सेवाएं बंद हैं। अधिकारी का दावा है कि आतंकी पहले इन हथियारों को ड्रोन की मदद से जम्मू-कश्मीर में उतारना चाहते थे लेकिन उन्होंने इस बार इसके लिए पंजाब को चुना। पंजाब पुलिस ने आतंकी संगठन खालिस्तान जिंदाबाद फोर्स के एक माड्यूल का खुलासा करते हुए कहा कि आईएसआई ड्रोन के जरिए पंजाब के सीमावर्ती इलाकों में हथियारों की डिलीवरी करवा रही थी।

आतंकियों को ISI की और से इसी बड़े आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए 5 एके 47 राइफल, 16 मैग्जीन और 472 कारतूस ड्रोन के जरिए भेजे गए थे। हमले के दौरान लाइव निर्देश देने के लिए ISI के हैंडलरों ने हथियारों की खेप के साथ सैटेलाइट फोन, 10 रुपये की नकली करंसी भी ड्रोन के जरिए भारत को भेजी थी। रिपोर्ट के मुताबिक, ISI मुंबई की तरह पंजाब में भी भीड़भाड़ वाले स्थानों पर हमला करना चाहती थी। पंजाब में धार्मिक डेरों और भीड़भाड़ वाले सार्वजनिक स्थानों पर आतंकियों से फायरिंग करवाकर बड़े हमले को अंजाम देने के फिराक में थी।

पढ़ें: देश की आधुनिक विचारधारा के जनक, पं. दीनदयाल थे जनसंघ के शिल्पकार

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें