अलर्ट जारी: भारत में बड़े फिदायीन हमले की फिराक में पाकिस्तान, ISI ने जैश-अलकायदा को सौंपी हमले की कमान

आईएसआई को लगता है कि भारतीय सेना का पूरा फोकस कश्मीर में है। ऐसे में उसे भारत के दूसरे हिस्सों में आतंकी घटना को अंजाम देने में कोई समस्या नहीं होने वाली।

Terror Attack

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) एक तरफ चीन की मदद से भारत में ड्रोन से हमले करने की लगातार कोशिश कर रही है, वहीं फिदायीन हमले (Terror Attack) को अंजाम देने की भी साजिश रच रही है।

जम्मू कश्मीर सरकार का मास्टर स्ट्रोक- पत्थरबाजों और हुड़दंगियों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी, पासपोर्ट बनाने से भी इनकार

भारतीय खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया है कि जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) को जम्मू–कश्मीर के अलावा देश के दूसरे हिस्सों में भी बड़े पैमाने में फिदायीन हमले की सुपारी दी गई है।

पाकिस्तान कोविड-19 संक्रमण के इस संकट काल में भी अपने नागरिकों की बेहतरी सोचने के बजाए भारत में कैसे आतंकी हमला (Terror Attack)  किया जाए इसकी ही प्लानिंग करती है।

खुफिया की सटीक सूचना और सदैव सतर्क रहने के कारण जम्मू–कश्मीर में आतंकी हमलों को अंजाम दे पाने में नाकाम आईएसआई घाटी के अलावा भारत के अलग–अलग हिस्सों को फिदायीन हमले (Terror Attack)  से दहलाने का मास्टर प्लान बना रही है। आईएसआई (ISI) ने इसकी जिम्मेदारी अपने भरोसेमंद आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को सौंपी है।

सूत्रों के मुताबिक, भारतीय खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया है कि जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) को जम्मू–कश्मीर के अलावा देश के दूसरे हिस्सों में भी खासकर बड़े शहरों‚ धार्मिक स्थलों व धार्मिक शहरों‚ सैन्य प्रतिष्ठानों पर बड़े पैमाने पर फिदायीन आतंकी हमले (Terror Attack)  की जिम्मेदारी दी गई है।

खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक जैश (Jaish-e-Mohammed) के मुखिया आतंकी मसूद अजहर के भाई मुफ्ती राउफ असगर और जैश के आतंकी शकील अहमद के साथ इसी 20 जुलाई को रावलपिंडी में आईएसआई (ISI) के अधिकारियों की बैठक हुई है। इस बैठक में नए सिरे से भारत में हमला करने की साजिश रची गई है लेकिन पिछले कुछ सालों से आईएसआई जैश और लश्कर के जरिए जम्मू–कश्मीर में ही फोकस कर रहा था।

खुफिया सूत्रों की मानें तो अब नए आतंक के मास्टर प्लान में कश्मीर सहित देश के अन्य हिस्सों को भी निशाना बनाने की योजना सामने आई है। आईएसआई (ISI) व आतंकी संगठनों की इस मीटिंग में राउफ असगर का भाई मौलाना अम्मार भी शामिल था।

खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक इस्लामाबाद में भी धड़ल्ले से आतंकी संगठनों के प्रमुख भारत के खिलाफ षणयंत्र रच रहे हैं। सूत्रों की मानें तो राउफ असगर ने जैश (Jaish-e-Mohammed) के बड़े आतंकी मुफ्ती अजघर खान कश्मीरी और क्वारी जरार के साथ इस्लामाबाद के एक मरकज में बैठक कर आतंकी हमले की रूपरेखा तैयार की है।

दरअसल, पाकिस्तान की ये मजबूरी बन गई है कि वो अब अपने देश की कंगाली से अपने आवाम का ध्यान बटाने के लिए आईएसआई के इशारे पर भारत में किसी बड़े आतंकी घटना (Terror Attack)  को जल्द से जल्द अंजाम दे और उसके तमाम संगठन बकायदा इसके लिए जी-तोड़ कोशिश कर रहे हैं।

आईएसआई को लगता है कि भारतीय सेना का पूरा फोकस कश्मीर में है। ऐसे में उसे भारत के दूसरे हिस्सों में आतंकी घटना को अंजाम देने में कोई समस्या नहीं होने वाली। लेकिन हाल ही में यूपी में अलकायदा के रैकेट का पर्दाफाश ने आईएसआई (ISI) सहित पाकिस्तानी हुक्मरानों के भी हौसले पस्त कर दिये हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम, यूट्यूब पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

यह भी पढ़ें