IPL मैच फिक्सिंग का किया था खुलासा, जानें कौन हैं दिल्ली पुलिस के नए कमीश्नर एसएन श्रीवास्तव

आईपीएस अधिकारी एसएन श्रीवास्तव (IPS SN Shrivastava) को दिल्ली पुलिस के विशेष आयुक्त (कानून और व्यवस्था) के रूप में नियुक्त किया गया है। दिल्ली पुलिस के वर्तमान पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक 29 फरवरी को रिटायर हो रहे हैं। अमूल्य पटनायक को दिल्ली विधानसभा के चुनावों को देखते हुए एक महीने का विस्तार दिया गया था। उनका ये विस्तार 29 फरवरी को खत्म हो रहा है।

IPS SN Shrivastava
आईपीएस अधिकारी एसएन श्रीवास्तव को दिल्ली पुलिस के विशेष आयुक्त (कानून और व्यवस्था) के रूप में नियुक्त किया गया है।

उत्तर पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक हिंसा के मद्देनजर स्थिति को नियंत्रित करने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एसएन श्रीवास्तव (IPS SN Shrivastava) को 25 फरवरी को सीआरपीएफ से वापस बुला लिया। उन्हें तत्काल प्रभाव से दिल्ली पुलिस में स्पेशल कमिश्नर (कानून और व्यवस्था) नियुक्त किया गया है।

इससे पहले, एसएन श्रीवास्तव केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) में विशेष महानिदेशक (प्रशिक्षण) के पद पर कार्यरत थे। बता दें कि एसएन श्रीवास्तव 1985 बैच के IPS अधिकारी हैं। वे दिल्ली पुलिस मुख्यालय यातायात प्रशिक्षण में संयुक्त आयुक्त के पद के अलावा दिल्ली पुलिस के आतंकवाद निरोधक स्पेशल सेल में भी लंबे समय तक विशेष आयुक्त रहे हैं और इंडियन मुजाहिदीन गुर्गों की गिरफ्तारी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इनके कार्यकाल में दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने IPL मैच फिक्सिंग का खुलासा किया था।

आत्मघाती हमलावर का प्रमुख सहयोगी गिरफ्तार, जम्मू-कश्मीर में जैश-ए-मुहम्मद के लिए करता था काम

सीआरपीएफ में तैनाती के दौरान श्रीवास्तव ने ऑपरेशन ‘ऑल आउट’ में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके नेतृत्व में सीआरपीएफ ने सेना के साथ मिलकर कई बड़े ऑपरेशन को अंजाम दिया था। जिसमें अनेक बड़े आतंकवादी मारे गए थे। एसएन श्रीवास्तव (IPS SN Shrivastava) को इसके बाद सीआरपीएफ में विशेष निदेशक के पद पर तैनात किया गया था।

एसएन श्रीवास्तव (IPS SN Shrivastava) काफी तेज तर्रार अफसर हैं। वह 2016-17 में हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद जम्मू-कश्मीर के एडीजी (पश्चिमी क्षेत्र) थे। श्रीवास्तव वीआईपी सुरक्षा देने वाली स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप में भी प्रतिनियुक्ति पर तैनात रहे हैं। एसएन श्रीवास्तव के पास स्थानीय अपराधियों से लेकर आतंकवादी संगठनों से निपटने का बड़ा अनुभव है।

<

p style=”text-align: justify;”>डीसीपी पद पर रहते हुए उन्होंने और उनकी टीम ने मिलकर कुख्यात नीतू ढाबलिया और मुन्ना बजरंगी का एनकाउंटर किया था। इसके अलावा स्पेशल सेल में उनके कार्यकाल में 3 दर्जन से ज्यादा आतंकवादी गिरफ्तार किए गए थे और कुख्यात आतंकवादी संगठन इंडियन मुजाहिदीन की कमर पूरी तरह से टूट गई थी। कुख्यात अब्दुल करीम टुंडा की गिरफ्तारी भी उनके ही कार्यकाल में नेपाल बॉर्डर से की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here