धार्मिक आयोजन में पहुंच सकते हैं नक्सली, बिहार के इन जिलों में अलर्ट जारी

नक्सली (Naxal) अपने प्रभाव वाले इलाकों में उपस्थिति दर्ज कराने का कोई मौका नहीं छोड़ते। खुफिया विभाग की रिपोर्ट (Intelligence Report)  है कि नक्सली कमांडर अपने कैडर के साथ बिहार के लखीसराय और जमुई में होने वाले  धार्मिक आयोजन ‘रामधुन’ में शामिल होने पहुंचेंगे।

Intelligence Report

खुफिया विभाग की रिपोर्ट (Intelligence Report) के बाद स्पेशल ब्रांच के एसपी ने लखीसराय और जमुई के डीएम और एसपी को सतर्क किया है।

खुफिया विभाग की रिपोर्ट (Intelligence Report)  है कि नक्सली कमांडर अपने कैडर के साथ बिहार के लखीसराय और जमुई में होने वाले  धार्मिक आयोजन ‘रामधुन’ में शामिल होने पहुंचेंगे। ‘रामधुन’ 13 फरवरी से 15 फरवरी तक आयोजित किया जाएगा।

Intelligence Report
धार्मिक आयोजन में पहुंच सकते हैं नक्सली, अलर्ट जारी।

नक्सली अपने प्रभाव वाले इलाकों में उपस्थिति दर्ज कराने का कोई मौका नहीं छोड़ते। खुफिया विभाग की रिपोर्ट (Intelligence Report) है कि नक्सली कमांडर अपने कैडर के साथ बिहार के लखीसराय और जमुई में होने वाले  धार्मिक आयोजन ‘रामधुन’ में शामिल होने पहुंचेंगे। ‘रामधुन’ 13 फरवरी से 15 फरवरी तक आयोजित किया जाएगा।

खुफिया विभाग की रिपोर्ट (Intelligence Report) के बाद स्पेशल ब्रांच के एसपी ने लखीसराय और जमुई के डीएम और एसपी को सतर्क किया और उचित कार्रवाई के लिए लिखा है। पत्र में लिखा गया है कि लखीसराय के कजरा थाना क्षेत्र के सीमावर्ती गांव बरमसिया गुरमाहा जंगली क्षेत्र के समीप बड़हिया स्थान में रामधुन का आयोजन किया जाएगा। यह भी बताया गया है कि यह रामधुन किसी उमेश नाम के व्यक्ति के द्वारा आयोजित कराया जाएगा। फाल्गुन महीने के पंचमी से सप्तमी तक इसके आयोजन होने की बात कही गई है।

सुरक्षाबलों को निशाना बना सकते हैं नक्सली

खुफिया विभाग की रिपोर्ट (Intelligence Report) में कहा गया है कि रामधुन के मौके पर पहले भी नक्सली कमांडर और कैडर इकट्ठा होते रहे हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि इस आयोजन में नक्सली कमांडर सहदेव सोरेन, बालेश्वर कोड़ा, अर्जुन कोड़ा, पिंटू राणा अपने कैडर के साथ शामिल होते रहे हैं। इस बार भी कई नक्सली कमांडर के इसमें शामिल होने की आशंका जताई गई है। इस बात की भी आशंका जताई गई है कि नक्सली सुरक्षाबलों के आने-जाने वाले रास्ते को निशाना बना सकते हैं।

स्थानीय लोगों से लेते हैं पुलिस की गतिविधियों की सूचना

खुफिया रिपोर्ट (Intelligence Report)में बताया गया है कि धार्मिक आयोजन में पहुंचकर नक्सली कमांडर अपने खास लोगों से पुलिस और सुरक्षा बलों की गतिविधियों की सूचना लेते हैं। यह भी बताया गया है कि वे अपने विश्वास पात्र लोगों के यहां ठहरेंगे। आम लोगों को कैडर में शामिल होने की अपील करने और पुलिस की मुखबिरी करनेवालों को चेतावनी देने का भी कार्य कर सकते हैं। हाल के दिनों में कई नक्सली कमांडर लखीसराय, जमुई, मुंगेर और अन्य प्रभावित जिलों में सक्रिय देखे गए हैं।

पढ़ें: दौरे के बाद अफगान प्रतिनिधि ने कश्मीर के हालात पर जताई खुशी, कहा- यहां व्यापार की काफी संभावनाएं हैं

यह भी पढ़ें