भारतीय सेना ने दिया सीजफायर उल्लघंन का मुंहतोड़ जवाब; 10 पाकिस्तानी चौकियां तबाह, पांच सैनिक ढेर

पाकिस्तानी सेना को नियंत्रण रेखा (LoC)) पर नापाक हरकत एक बार फिर भारी पड़ी है। आतंकवाद के पनाहगाह पाकिस्तान को भारतीय सेना (Indian Army) ने एक बार फिर से मुंहतोड़ जवाब दिया है।

Indian Army

भारतीय सेना ने दिया सीजफायर उल्लघंन का मुंहतोड़ जवाब।

नियंत्रण रेखा (LoC) पर की गई नापाक हरकत पाकिस्तानी सेना को एक बार फिर भारी पड़ी है। आतंकवाद के पनाहगाह पाकिस्तान (Pakistan) को भारतीय सेना (Indian Army) ने एक बार फिर से मुंहतोड़ जवाब दिया है। 11 जून की रात को भारतीय सेना ने PoK में LoC से सटी 10 पाकिस्तानी सेना की चौकियों को तबाह कर दिया है।

दरअसल, पाकिस्तानी सेना ने जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के रजौरी और पुंछ सेक्टर में गोलीबारी की थी, जिसमें सेना के जवान गुरचरण सिंह शहीद हो गए थे। इसके अलावा रजौरी के नौशेरा में पाकिस्तानी गोलीबारी में एक पुलिस कर्मी घायल हो गए थे। इसके बाद भारतीय सेना (Indian Army) ने यह जवाबी कार्रवाई की और पाकिस्तानी सेना की 10 चौकियों को तबाह कर दिया। भारतीय सेना ने कहवलियन नाली सम्हानी सेक्टर में पाकिस्तानी सेना की चौकियों को निशाना बनाया।

नजीर! नक्सली हमले में शहीद हुए थे पति, वीरांगना ने कोविड-19 से लड़ाई में की लाखों रुपए की मदद

सूत्रों के मुताबिक, भारतीय सेना (Indian Army) की इस कार्रवाई में पाकिस्तानी सेना को काफी नुकसान हुआ है। इस कार्रवाई में पाक सेना के पांच जवान ढेर हो गए, जिनमें एक मेजर रैंक का अधिकारी भी शामिल है। इसके अलावा दो से तीन जवान घायल भी हुए हैं। बता दें कि कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी संकट के दौर में भी पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। पाक सेना की ओर से एलओसी घाटी में आतंकियों की घुसपैठ कराने के लिए लगातार सीजफायर का उल्लघंन (Ceasefire Violation) कर रहा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2019 में 16 सालों में सबसे ज्यादा सीजफायर का उल्लंघन हुआ था। लेकिन 2020 में पाकिस्तान उससे भी आगे बढ़ता दिख रहा है। 2019 में जहां कुल 3168 बार सीजफायर का उल्लंघन किया गया था, वहीं इस साल अभी 6 महीने भी पूरे नहीं हुए और पाकिस्तान की तरफ से 2027 बार सीजफायर का उल्लंघन किया जा चुका है। पाकिस्तान ने पिछले साल जनवरी से लेकर मई तक जहां 1140 बार सीज फायर का उल्लंघन किया था। वहीं इस साल शुरूआती पांच महीनों में 1913 बार सीज फायर का उल्लंघन हुआ है।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह भी कह चुके हैं कि सरहद पार काफी बड़ी संख्या में आतंकी दस्ताने घुसपैठ करने की फिराक में मौजूद हैं। नियंत्रण रेखा पर उनकी संख्या 150-250 और भारत-पाक सीमा पर 125-150 बताई गई है, जोकि विदेशी मूल के हैं। वहीं, घाटी के भीतर भी मौजूदा वक्त में खासकर दक्षिण कश्मीर व उत्तरी कश्मीर में यह आतंकी दस्ते मौजूद हैं जोकि जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed), लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) और हिज़बुल मुजाहिद्दीन (Hizbul Mujahideen) आदि संगठनों के हैं।

यह भी पढ़ें