फिर दिखी चीन की चालबाजी, लद्दाख में LAC पर भेजे चॉपर्स; वायुसेना ने खदेड़ा

भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) ने लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा की ओर आ रहे चीनी हेलीकॉप्टरों को खदेड़ दिया। भारतीय लड़ाकू विमानों ने लद्दाख सीमा की ओर उड़ान भरी और चीनी चॉपर्स को वापस लौटना पड़ा।

Indian Air Force

लद्दाख में LAC पर चीन ने भेजे चॉपर्स, वायुसेना ने खदेड़ा।

चीन ने एलएसी ( Line of Actual Control) पर एक बार फिर अपनी चालबाजी दिखानी शुरू की है। उत्तरी सिक्किम (North Sikkim) में LAC यानी लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर भारतीय सेना (Indian Army) के जवानों और चीनी पीपुल्स लिबरेशन (PLA) के जवानों के आमने-सामने आने के बाद लद्दाख सीमा (Ladakh) पर चीनी चॉपर्स देखे गए।

इसके तुरंत बाद भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) अलर्ट हो गई। लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा की ओर आ रहे चीनी हेलीकॉप्टरों को भारतीय वायुसेना ने खदेड़ दिया। भारतीय लड़ाकू विमानों ने लद्दाख सीमा की ओर उड़ान भरी और चीनी चॉपर्स को वापस लौटना पड़ा। इसके बाद वायुसेना (Indian Air Force) ने वहां गश्त बढ़ा दी है।

Breaking News: झारखंड के चाईबासा में मुठभेड़, जान बचाकर भागे नक्सली

सरकारी सूत्रों के हवाले से न्‍यूज एजेंसी एएनआई (ANI) ने बताया, ‘चीन के सैन्य हेलीकॉप्टर लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा के बहुत करीब उड़ान भर रहे थे। उनके मूवमेंट को खत्म करने के बाद, भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) के लड़ाकू विमानों ने इलाके में गश्त बढ़ा दी।’ हालांकि, चीनी हेलीकॉप्टरों ने भारतीय सीमा के भीतर LAC को पार नहीं किया।

इससे पहले भी कई बार चीनी सैन्य हेलीकॉप्टरों ने लद्दाख सेक्टर में भारत के एयरस्पेस में प्रवेश किया है और जानबूझकर भारत के हिस्से वाले क्षेत्रों पर हिस्सेदारी का दावा करने के लिए संकेत दिए हैं। बता दें कि दो दिन पहले उत्तरी सिक्किम में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच आमना-सामना हुआ था। इस दौरान भारतीय और चीनी सेना के जवान आक्रामक हो गए थे, जिसमें कुछ को मामूली चोटें आई थीं।

हालांकि, बाद में स्थानीय स्तर पर बातचीत के बाद सैनिकों को हटा दिया गया था। यह पहला मौका नहीं, जब चीन की सेना ने भारतीय सेना के साथ एलएसी पर भिड़ने की कोशिश की हो। डोकलाम विवाद के बाद एक बार फिर दोनों देशों के सेनाओं के बीच इतना तनाव देखा जा रहा है। चीन की किसी भी हरकत का जवाब देने के लिए भारतीय सेनाएं भी सतर्क हैं।

यह भी पढ़ें