चीन के साथ LAC पर तनाव के बीच रक्षा मंत्री ने सीडीएस के साथ की बैठक, तीनों सेना प्रमुख भी रहे मौजूद

चीन (China) के साथ LAC पर जारी तनाव के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने 8 जून को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) के साथ सुरक्षा समीक्षा बैठक की। इस बैठक में CDS जनरल बिपिन रावत के अलावा तीनों सेनाओं के प्रमुख भी शामिल थे।

China

चीन (China) के साथ LAC पर जारी तनाव के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने 8 जून को चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत (General Bipin Rawat) के साथ सुरक्षा समीक्षा बैठक की। इस बैठक में CDS जनरल बिपिन रावत के अलावा तीनों सेनाओं के प्रमुख भी शामिल थे। रक्षा मंत्री ने सुरक्षा समीक्षा बैठक में चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर मौजूदा स्थिति पर चर्चा हुई।

इससे पहले, चीन के साथ विवाद को लेकर विदेश मंत्रालय ने बताया कि भारत और चीन (China) मौजूदा सीमा गतिरोध को द्विपक्षीय समझौतों के अनुसार शांतिपूर्ण रूप से सुलझाने के लिए सैन्य एवं राजनयिक वार्ताएं जारी रखने पर सहमत हो गए हैं। विदेश मंत्रालय ने पूर्वी लद्दाख गतिरोध पर दोनों देशों की उच्चस्तरीय सैन्य वार्ता के परिणामों की जानकारी साझा करते हुए यह बात कही।

लद्दाख में भारत-चीन तनातनी के बीच गृह राज्य मंत्री ने शेयर किया वीडियो, दुनिया ने देखी हिन्दुस्तान की ताकत

बता दें कि लेह स्थित 14वीं कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह के नेतृत्व में भारतीय प्रतिनिधिमंडल और तिब्बत मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट के कमांडर मेजर जनरल लिऊ लिन ने 6 मई को पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीनी सीमा में माल्डो पर बैठक की थी। सूत्रों के मुताबिक, उच्च स्तरीय सैन्य वार्ता के कोई ठोस परिणाम नहीं निकले, जिससे पूर्वी लद्दाख में गतिरोध समाप्त हो सके।

विदेश मंत्रालय ने कहा, “बैठक सौहार्दपूर्ण तथा सकारात्मक माहौल में संपन्न हुई और दोनों पक्षों ने इस बात पर सहमति जताई कि उक्त मुद्दे के जल्द समाधान से दोनों देशों के बीच संबंधों का और अधिक विकास होगा।” मंत्रालय के बयान में कहा गया, “दोनों पक्ष विभिन्न द्विपक्षीय समझौतों और नेताओं के बीच बनी सहमति को ध्यान में रखते हुए सीमावर्ती क्षेत्रों में हालात को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाने पर राजी हो गए। नेताओं के बीच सहमति बनी थी कि भारत-चीन सीमा क्षेत्र में अमन-चैन द्विपक्षीय संबंधों के संपूर्ण विकास के लिए आवश्यक है।”

गौरतलब है कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने भारत और चीन की सेनाओं के बीच लगभग एक महीने से चले आ रहे गतिरोध के संदर्भ में कहा था कि पूर्वी लद्दाख में चीनी सैनिक ‘अच्छी खासी संख्या में’ आ गए हैं और भारत ने भी स्थिति से निपटने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए हैं। बता दें कि पूर्वी लद्दाख में स्थिति तब बिगड़ गई जब 5 मई की शाम चीन (China) और भारत (India) के करीब 250 सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई।

यह भी पढ़ें