Kulbhushan Jadhav: भारत ने कहा- जाधव को बिना किसी शर्त के काउंसलर एक्सेस दे पाकिस्तान

पाकिस्तान (Pakistan) की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) के काउंसलर एक्सेस को लेकर एक बार फिर भारत ने पाकिस्तान से बात की है।

Kulbhushan Jadhav

फाइल फोटो।

पाकिस्तान (Pakistan) की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) के काउंसलर एक्सेस को लेकर एक बार फिर भारत ने पाकिस्तान से बात की है। सूत्रों के हवाले से खबर है कि भारत ने 16 जुलाई को पाकिस्तान से कहा है कि वो बिना किसी शर्त के जेल में कैद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव से बातचीत करने का मौका दे।

दरअसल, पाकिस्तान ने दावा किया था कि सैन्य अदालत से मौत की सजा पाए जाधव ने पुनर्विचार याचिका दायर करने से इनकार कर दिया है। हालांकि भारत के सख्त रुख के बाद पाकिस्तान पलट गया था। बता दें कि भारत की मांग रही है कि जाधव से भारत के दो अधिकारियों को मिलने दिया जाए। बातचीत की भाषा अंग्रेजी न तय की जाए और वकील भी पाकिस्तान से बाहर का करने दिया जाए।

झारखंड: राज्य में बड़े हमले की फिराक में हैं नक्सली, पुलिस प्रशासन सतर्क

कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) के बचपन के दोस्त अरविंद सिंह ने कहा, ‘पिछली बार उन्होंने जो किया वह उनकी मां, पिता और पत्नी के लिए अपमानजनक था और यह संपूर्ण रूप से भारत के लिए भी अपमानजनक था। इसलिए हम चाहते हैं कि राजनयिक पहुंच बिना शर्त के होनी चाहिए।

बता दें कि कुलभूषण जाधव 2016 से पाकिस्तान की जेल में बंद हैं। पाकिस्तान आरोप लगाता है कि जाधव एक जासूस हैं। हालांकि भारत कई बार इस दावे को नकार चुका है। पाकिस्तानी सुरक्षा बलों ने 3 मार्च, 2016 को जासूसी और आतंकवाद के आरोप में बलूचिस्तान से जाधव को गिरफ्तार किया था।

छत्तीसगढ़: 500 नक्सलियों को सरेंडर कराने की तैयारी, ‘घर लौटो’ अभियान के तहत किया जाएगा पुनर्वास

भारत ने अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (ICJ) में 2017 को इस मुद्दे को उठाया था। पिछले साल जुलाई में अदालत ने पाकिस्तान से कहा था कि वो कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) को काउंसलर एक्सेस दे और फांसी की सजा पर दोबारा विचार करे।

पाकिस्तान अगर अंतरराष्ट्रीय अदालत के निर्देशों का उचित रूप से पालन नहीं करता है तो भारत फिर अंतराष्ट्रीय अदालत के पास शिकायत लेकर जाएगा। भारत का आरोप है कि पाकिस्तान अंतराष्ट्रीय अदालत के फैसले के अनुरूप काम नहीं कर रहा और आंख में धूल झोंकने की कोशिश कर रहा है।

पाकिस्तान ने एक बार जो काउंसलर एक्सेस दिया भी, तो इतनी तरह की बाधाएं खड़ी कर दी कि जाधव (Kulbhushan Jadhav) अपनी बात कह नहीं पाए। भारत का कहना है कि जाधव को अपने दबाव और प्रताड़ना में रखकर पाकिस्तान उनसे मनचाही बातें करवाता है। पाकिस्तान के इस दावे को भारत ने नाटक करार देते हुए कहा कि जाधव को अधिकार छोड़ने के लिए ‘मजबूर’ किया गया है।

यह भी पढ़ें