सैकड़ों कत्ल करने वाली खूंखार महिला नक्सली गिरफ्तार, गढ़चिरौली हमले की है मास्टरमाइंड

naxal mastermind arrested, gadchiroli blast, naxal attack in gadchiroli, jawans killed in naxal attack, sirf sach, sirfsach.in

महाराष्‍ट्र पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। महाराष्‍ट्र के गढ़चिरौली में 1 मई को हुए नक्‍सली हमले के मामले में पुलिस ने हमले की मास्‍टरमाइंड 70 लाख की इनामी महिला नक्सली को गिरफ्तार किया है। इस महिला नक्सली का नाम नर्मदा बताया जा रहा है। महाराष्ट्र पुलिस ने पड़ोसी तेलंगाना राज्य से शीर्ष नक्सली नर्मदा और उसके पति किरन को हिरासत में लिया है। पुलिस ने 11 जून को यह जानकारी दी। पुलिस का कहना है कि यह महिला माओवादी कई अन्य नक्सली वारदातों की भी मास्‍टरमाइंड रही है। गिरफ्तार महिला माओवादी नर्मदा अब तक 40 से अधिक पुलिसकर्मियों की हत्या कर चुकी है। वहीं मुखबिरी के शक में 22 से अधिक आदिवासी युवाओं को भी मार चुकी है।

साथ ही पति-पत्नी पर आरोप है कि इन्होंने छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले के श्यामागिरि की पहाड़ियों में 9 अप्रैल को भाजपा विधायक भीमा मंडावी के काफिले पर हुए हमले की भी साजिश रची थी। इस हमले में मंडावी और उनके चार अंगरक्षक मारे गए थे। नर्मदा और उसके पति किरन को महाराष्ट्र पुलिस ने ओडिशा से गिरफ्तार किया है। अधिकारियों के अनुसार, कुमार (63) उर्फ किरन दादा और नर्मदा (60) उर्फ कृष्णा कुमारी नक्सल राज्य समिति के सदस्य हैं। साथ ही, नर्मदा सीपीआई (माओवादी) के दंडकारण्य स्पेशल जोनल कमिटी (डीकेएसजेडसी) के शीर्ष कमांडरों में से एक है।

नर्मदा की गिरफ्तारी पुलिस के लिए बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि वह महाराष्ट्र ओैर छत्तीसगढ़ में सुरक्षा बलों पर हुए सभी नक्सली हमलों में किसी न किसी रूप में शामिल रही है। पुलिस उसे 22 साल से तलाश रही थी। उन्होंने बताया कि आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा का रहने वाला कुमार दो दशक से अंडरग्राउंड था। गौरतलब है कि महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्सलियों ने दो पुलिस की गाड़ियों को IED ब्लास्ट कर के उड़ा दिया था। इस हमले में 15 जवान शहीद हो गए। साथ ही गाड़ी चला रहे एक ड्राइवर की भी इसमें मौत हो गई है। जानकारी के मुताबिक दो गाड़ियों में करीब 25 जवान सवार थे। दोनों गाड़ियां पेट्रोलिंग के लिए निकली थीं।

घटना के वक्त सी-60 कमांडो की यूनिट का दस्ता वहां से गुजर रहा था। तभी घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने IED ब्लास्ट कर दिया था। गढ़चिरौली में हुए ब्‍लास्‍ट को लेकर खुफिया एजेंसी आईबी ने कुछ दिन पहले ही छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र को अलर्ट भेजा था। जिसमें नक्‍सलियों की हमले की योजना की आशंका जताई गई थी। एक मई को सुबह नक्सलियों ने गढ़चिरौली जिले में ही एक सड़क निर्माण कंपनी के करीब 25 वाहनों में आग लगा दी थी। यह घटना कुरखेडा तहसील के दादापुर में हुई। इस वारदात के बाद ही ब्‍लास्‍ट करके एक और बड़ी घटना को अंजाम दिया गया जिसमें सी-60 कमांडो यूनिट के 15 जवान शहीद हो गए थे।

यह भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर: चुन-चुन कर आतंकियों को ढेर कर दिया, पढ़िए शहीद जुम्मन अली की वीरगाथा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here