चीन के कारनामों से अमेरिका का पारा सातवें आसमान पर, शी जिनपिंग से सीधे मुंह बात नहीं करना चाहते डोनाल्ड ट्रंप

उन्होंने (Donald Trump) कहा‚ ‘मेरे प्रशासन ने चीन एवं यूरोप से आने वाले लोगों के प्रवेश पर बहुत जल्द प्रतिबंध लगाकर लोगों की जिंदगियां बचाई। मैं चाहता हूं कि हर कोई यह जान ले कि हम चीनी वायरस से लड़ने और अपने लोगों को सुरक्षित रखने के लिए संघीय सरकार की सभी शक्तियों का इस्तेमाल कर रहे हैं।

Donald Trump

US President Donald Trump with China's President Xi Jinping

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कहा कि उन्होंने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से बात नहीं की है और न ही उनकी ऐसा करने की कोई योजना है। ट्रंप ने व्हाइट हाउस में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा‚ “नहीं‚ मैंने उनसे बात नहीं की है। मेरी उनसे बात करने की कोई योजना नहीं है। उन्होंने कोरोना वायरस (Coronavirus) को चीन से बाहर फैलने से रोकने में उसकी नाकामी पर आक्रोश जताया”।

Galwan Valley: मारे गए सैनिकों के परिवारों पर दबाव बना रहा चीन, नहीं करने दे रहा अंतिम संस्कार

उन्होंने (Donald Trump) कहा‚ ‘इसमें कोई दो राय नहीं है कि हम संक्रमण को छिपाने और इसे दुनियाभर में फैलाने के लिए चीन को पूरी तरह जिम्मेदार ठहराते हैं। इसे रोका जा सकता था। उन्हें इसे रोकना चाहिए था।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) इस मुद्दे पर चीन का पक्ष लेने के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) पर भी बरसे। ट्रंप ने कहा‚ ‘वे वास्तव में चीन की कठपुतली थे।’ ट्रंप ने चीन पर ‘नरम’ रुख अपनाने के लिए अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति एवं नवम्बर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के उनके प्रतिद्वंद्वी जो बाइडेन की भी आलोचना की।

उन्होंने (Donald Trump) कहा‚ ‘मेरे प्रशासन ने चीन एवं यूरोप से आने वाले लोगों के प्रवेश पर बहुत जल्द प्रतिबंध लगाकर लोगों की जिंदगियां बचाई। मैं चाहता हूं कि हर कोई यह जान ले कि हम चीनी वायरस से लड़ने और अपने लोगों को सुरक्षित रखने के लिए संघीय सरकार की सभी शक्तियों का इस्तेमाल कर रहे हैं। ‘ऑपरेशन वार्प स्पीड’ के जरिए हम रिकॉर्ड वक्त में वैक्सीन बना देंगे।’

राष्ट्रपति ने कहा‚ उन्होंने (बाइडेन) कहा कि ”चीन को प्रतिद्वंद्वी मानना बिल्कुल अजीब बात है। वह सच में अजीब हैं। उन्होंने कहा कि चीन कोई दिक्कत नहीं है”। जबकि ऐसा नहीं है, पिछले 25–30 वर्षों में चीन ने हमसे सबसे अधिक छीना है।’

यह भी पढ़ें