IB कर्मचारी अंकित के हत्यारे के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का भी मामला दर्ज

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने दिल्ली दंगों के सिलसिले में निलंबित आप पार्षद ताहिर हुसैन (Tahir Hussain), इस्लामी समूह पीएफआई (PFI) तथा कुछ अन्य के खिलाफ धन शोधन और दंगों के लिए कथित तौर पर पैसा मुहैया करवाने का मामला दर्ज किया है। अधिकारियों ने बताया कि हुसैन के खिलाफ केंद्रीय जांच एजेंसी ने मामला धनशोधन रोकथाम अधिनियम (PMLA) के तहत दर्ज किया है।

PFI

गौरतलब है कि हुसैन पर पिछले महीने उत्तरपूर्वी दिल्ली में हुए दंगों के दौरान खुफिया ब्यूरो के एक कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या का भी आरोप है। शर्मा का शव चांद बाग इलाके में एक नाले में मिला था। शर्मा के परिवार ने हुसैन पर हत्या का आरोप लगाया है। हालांकि, ताहिर इस आरोप को नकारते रहे हैं।

पीएफआई (PFI) पर भी धन शोधन का मामला दर्ज किया गया है। यह संगठन देश के विभिन्न हिस्सों में सीएए (CAA) के खिलाफ प्रदर्शनों को कथित तौर पर बढ़ावा देने संबंधी एक PMLA जांच का सामना पहले से कर रहा है। संगठन पर आरोप है कि उसने देश में सीएए (CAA) विरोधी प्रदर्शनों को बढ़ावा देने के लिए कथित तौर पर 120 करोड़ रुपए मुहैया करवाए। एजेंसी बीते पखवाड़े में संगठन के कई पदाधिकारियों से पूछताछ कर चुकी है।

पढ़ें- दिल्ली दंगों का मास्टरमाइंड ताहिर के तीन साथी चढ़े पुलिस के हत्थे

यह मामला पीएफआई (PFI) तथा अन्य सहयोगी संगठनों के खिलाफ 2018 की एनफोर्समेंट केस इंफॉर्मेशन रिपोर्ट के आधार पर बना है। यह रिपोर्ट पुलिस प्राथमिकी के बराबर है।

संगठन का दावा है कि उसके वित्तीय लेनदेन पूरी तरह से पारदर्शी हैं। मामले में पूछताछ के लिए ईडी हुसैन को हिरासत में देने की मांग कर सकती है। हसैन वर्तमान में दिल्ली पुलिस की हिरासत में है।

अधिकारियों ने बताया कि संघीय एजेंसी ने हुसैन, पीएफआई (PFI) तथा अन्य के खिलाफ कथित धन शोधन तथा अवैध धन महैया करवाने के मामले की जांच के संबंध में दिल्ली पुलिस द्वारा दर्ज की गई कुछ प्राथमिकियों का संज्ञान लिया।

<

p style=”text-align: justify;”> 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here