मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची में नंबर वन पर दाऊद इब्राहिम, मुंबई धमाके के बाद से है फरार

1993 में हुए मुंबई ब्लास्ट से पहले दाऊद (Dawood Ibrahim) सिर्फ एक गैंगस्टर के रूप में जाना जाता था और उसे देश के लिए खतरा नहीं माना जाता था।

Dawood Ibrahim(दाऊद इब्राहिम) 1993 में हुए मुंबई ब्लास्ट से पहले सिर्फ एक गैंगस्टर के रूप में जाना जाता था

Dawood Ibrahim (दाऊद इब्राहिम) 1993 में हुए मुंबई ब्लास्ट से पहले सिर्फ एक गैंगस्टर के रूप में जाना जाता था।

अंडरवर्ल्ड की दुनिया के सहसे बड़े डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) का जन्म महाराष्ट्र के रत्नागिरी में हुआ। शेख दाउद इब्राहिम कास्कर आज अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के नाम से पूरी दुनिया में जाना जाता है। कहते हैं स्कूल के दिनों में ही दाउद इब्राहिम चोरी, डकैती और तस्करी जैसे काले धंधों से जुड़ गया था। पिता शेख इब्राहिम अली कास्कर बेटे के इन आदतों से दुखी थे और फिर परिवार वालों ने उसकी शादी जरीना नाम की एक लड़की से कर दी।

दाऊद जैसे-जैसे बड़ा हुआ वो जल्दी ही अंडरवर्ल्ड डॉन करील लाला (Kareem Lala) गैंग के साथ जुड़ गया। 80 के दशक में चोरी और तस्करी करने वाला दाऊद धीरे-धीरे जुर्म की दुनिया का सबसे बड़ा नाम बन गया। वह फिल्म फाइनेंसिंग और सट्टेबाजी का भी काम करने लगा। 12 मार्च, 1993 को मुंबई में 13 जगह ब्लास्ट हुए थे। इसमें करीब 257 लोगों की मौत हुई थी और 700 लोग गंभीर रूप से जख्मी हुए थे। इस घटना के बाद भी दाऊद ने मुंबई में अपना गैरकानूनी कारोबार जारी रखा। 1993 में हुए मुंबई ब्लास्ट से पहले दाऊद (Dawood Ibrahim) सिर्फ एक गैंगस्टर के रूप में जाना जाता था और उसे देश के लिए खतरा नहीं माना जाता था।

INS ‘Karanj’: समुद्र में दुश्मनों को चकमा देने में माहिर, जानिए Indian Navy की इस पनडुब्बी की खासियत

कहा जाता है कि मुंबई बम ब्लास्ट का मास्टरमाइंड दाऊद (Dawood Ibrahim) देश छोड़कर भाग गया। उसने पहले गल्फ देशों में फिर पाकिस्तान में जाकर पनाह ली है। आतंक का पर्याय और 1993 में मुंबई में हुए धमाके का मुख्य आरोपी अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम भारत के मोस्ट वांटेट आतंकवादियों की सूची में पहले नंबर पर है और विश्व के सबसे खूंखार आतंकवादियों की सूची में तीसरे नंबर पर है।

बताया जाता है कि समय के साथ-साथ दाऊद का क्रिमिनल रिकॉर्ड बढता चला गया। हाजी मस्तान और अफगानिस्तान से आए प्रवासियों से बनी ‘पठान गैंग’ के बीच हुई लड़ाई के बाद दाऊद काफी पावरफुल और खतरनाक होता चला गया। पठान गैंग ने बहुत बड़े गैंगस्टर में से एक मान्या सूर्वे (Manya Surve) की मदद से दाऊद के भाई सब्बीर इब्राहिम कस्कर को मार दिया था। दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) ने इसका बाद पठान गैंग जो बदला लिया वो नजारा तो पूरा मुंबई शहर जानता है।

बताया जाता है कि दाऊद (Dawood Ibrahim) का फोन टैप करने में भारतीय एजेंसियों की मदद पश्चिमी देशों की एजेंसियों ने की थी जो बाद में मीडिया के एक वर्ग के पास लीक हो गई। इससे कयास लगाया जाने लगा कि भारत का मोस्ट वांटेड बीमार चल रहा है। कहा गया कि वह दिल की बीमारी से पीड़ित है और कराची के अस्पताल में भर्ती है, लेकिन उसके भाई अनीस इब्राहिम ने इस बात से साफ इनकार कर दिया था।

Irrfan Khan: हिंदी सिनेमा का नायाब हीरा, जानें इरफान की जिंदगी से जुड़ी कुछ खास बातें

यह भी पढ़ें