भारत के दुश्मन नं. 1 ने मिलाया लश्कर-ए-तैयबा के साथ हाथ, ‘2008 मुंबई हमले’ जैसे बड़े हमले की साजिश

हिजबुल के हमजोली रहे दाऊद (Dawood Ibrahim) ने अब भारत के खिलाफ लश्कर (Lashkar-e-Taiba)  से हाथ मिला लिया है। ऐसा करके उसने पाकिस्तान में रहकर अपने आपको महफूज कर लिया है। आईएसआई (ISI) के सहयोग से आतंकी डॉन अब भारत में वर्ष 2008 में हुए मुंबई जैसे बड़े हमले की साजिश रच रहा है।

Dawood Ibrahim

Dawood and Hafiz comes together against India

भारत के दुश्मन नंबर 1 और दुश्मन नंबर 2 ने आपस में हाथ मिला लिया है। जी हां 1993 मुंबई बम ब्लास्ट का मास्टरमाइंड और सालों से पाकिस्तान की गोद में छुप कर बैठे अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) ने भारत में फिर से एक बड़े हमले की तैयारी कर रहा है। इस बार दाऊद ने भारत के दुश्मन नंबर 2 यानि की लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba) से हाथ मिलाया है। ऐसे में साफ है कि भारत में फैले अपने ड्रग नेटवर्क की मदद से दाऊद लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों के जरिये 2008 मुंबई हमले जैसे एक और हमले की फिराक में है।

नए घटनाक्रम में गत वर्ष तक हिजबुल के हमजोली रहे दाऊद (Dawood Ibrahim) ने अब भारत के खिलाफ लश्कर (Lashkar-e-Taiba)  से हाथ मिला लिया है। ऐसा करके उसने पाकिस्तान में रहकर अपने आपको महफूज कर लिया है। पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) के सहयोग से आतंकी डॉन अब भारत में वर्ष 2008 में हुए मुंबई जैसे बड़े हमले की साजिश रच रहा है। दाऊद ने बिहार, उत्तर प्रदेश, दिल्ली और पंजाब में अपने ड्रग माफियाओं को तैयार रहने को कहा है।

इतिहास में पहली बार CRPF ने पेश की ऐसी मिसाल, जिस नक्सली कमांडर ने कई जवानों की हत्या की, उसकी बीमार मां का करवा रहे हैं इलाज

सूत्रों के अनुसार पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा (Lashkar-e-Taiba)  का शीर्ष कमांडर अब्दुल रहमान मक्की हाल ही में तीसरी बार कराची गया था। वहां उसने दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim)  के साथ मुलाकात करके भारत में हमले का खाका तैयार किया है।

खुफिया सूत्रों के अनुसार आईएसआई (ISI) ने दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim)  की डी कंपनी को भारत के अलग-अलग हिस्सों में हथियार पहुंचाने के संबंध में भी टास्क दिया है। आईएसआई (ISI) चाहती है कि लश्कर (Lashkar-e-Taiba) डी कंपनी के गुर्गो का इस्तेमाल इन हमलों के लिए करे।

आईएसआई (ISI) भारत में अब 2008 के मुंबई हमले जैसा बड़ा हमला कराना चाह रही है। पिछले साल अगस्त में जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 हटने के बाद से उसकी सारी साजिशें नाकाम हो गई हैं और वह आतंकी गतिविधियों को अंजाम नहीं दे पा रही है। भारत की आक्रामक नीति के कारण आतंकी संगठनों के बीच विश्वास खो रही आईएसआई अपना रुतबा बढ़ाने के लिए भारत के खिलाफ बड़ी साजिश रच रही है।

इससे पहले हिजबुल चीफ सल्लाउद्दीन से ड्रग तस्करी को लेकर लंबे समय से दाऊद (Dawood Ibrahim) का गहरा संबंध रहा है। लेकिन हाल के कुछ महीनो में भारतीय खुफिया एजेंसियों की सटीक सूचना और आक्रामक शैली से दाऊद ने डर कर हिजबुल का साथ छोड़कर लश्कर (Lashkar-e-Taiba)  का दामन थाम लिया है।

मुंबई जैसे हमले की साजिश का इनपुट भारतीय खुफिया एजेंसियों के हाथ लग गया है। लश्कर-ए-तैयबा समुद्र के रास्ते गुजरात और महाराष्ट्र में हथियार भेजने की साजिश रच रहा है। इसमें पाक के मित्र देश भी पर्दे के पीछे से हथियारों की सप्लाई आदि में मदद कर रहे हैं।

गुप्त सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी इस समय भारत के बड़े शहरों को निशाना बनाकर वहां शांति भंग करने के मकसद से हमले की साजिश रच रची है। पाकिस्तान में रह रहे दाऊद (Dawood Ibrahim) को इस्लामाबाद स्थित उसके फॉर्महाउस पर देखा गया है। पिछले करीब एक माह से वह गायब था। इसी फॉर्महाउस में उसने आईएसआई (ISI) के साथ लश्कर (Lashkar-e-Taiba)  के शीर्ष आतंकियों से मुलाकात की।