CRPF की महिला सिपाही के पास आया पाकिस्तान से फोन, कॉलर बोला- ‘जानकारी दो, मुंह मांगी कीमत मिलेगी’

पाकिस्तान (Pakistan) से जुड़ी एक सनसनीखेज खबर सामने आई है। पाकिस्तान से किसी व्यक्ति ने सीआरपीएफ (CRPF) की एक महिला सिपाही के पास व्हाट्सएप कॉल किया है।

CRPF

पाकिस्तान (Pakistan) से जुड़ी एक सनसनीखेज खबर सामने आई है। पाकिस्तान से किसी व्यक्ति ने सीआरपीएफ (CRPF) की एक महिला सिपाही के पास व्हाट्सएप कॉल किया है। सीआरपीएफ ने इस बारे में दिल्ली पुलिस को शिकायत दी है। चूंकि यह मामला सीधा राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा है, इसलिए विकासपुरी पुलिस स्टेशन ने यह केस स्पेशल सेल के हवाले कर दिया गया है।

कॉल करने वाले व्यक्ति ने कहा, “हम तुम्हारे बारे में सब जानते हैं। तुम्हारा नाम। तुम्हारा काम। तुम्हारा पता। अब तुम ये बताओ काम करने के लिए तैयार हो? इसके लिए तुम्हें मुंहमांगी कीमत मिलेगी। इतना ही नहीं, महिला सिपाही को हैरत तो उस समय हुई, जब फोन करने वाले शख्स ने कहा कि हमें सब मालूम है। तुम यूपी की रहने वाली हो। फोन करने वाले शख्स ने महिला सिपाही के सामने प्रस्ताव रखते हुए कहा कि अगर तुम अपने फोर्स और कैंपस के बारे में जानकारी दो, तो तुम्हें मुंह मांगी कीमत मिलेगी। फोन काटने से पहले वो शख्स कहता है कि अभी हम नहीं बता रहे हैं। पहले तुम अपना डिमांड बताओ।”

…जब आतंकी हमले में चली गई थी 160 लोगों की जान, 3 दिन तक चली थी आतंकियों से लड़ाई

बहरहाल, अब इस पूरे मामले को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) को भेज दिया गया है। दिल्ली पुलिस इसकी गहन तफ्तीश में जुट गई है। दिल्ली पुलिस के सूत्रों के अनुसार, सीआरपीएफ (CRPF) की महिला सिपाही दिल्ली आर्म्ड पुलिस ‘डीएपी’ के विकासपुरी स्थित कैंपस में संतरी की ड्यूटी पर थी। दो दिन पहले उसके पास 923055752119 नंबर से व्हाट्सएप कॉल आई थी।

सूत्रों का कहना है कि महिला सिपाही सोशल मीडिया जैसे फेसबुक आदि पर भी नहीं हैं। उसके पास जो सिम है, वह बागपत से लिया हुआ है। गौरतलब है कि भारतीय सेना (Indian Army) ने पिछले साल नवंबर में अपने सभी जवानों के लिए व्हाट्सएप को लेकर एक एडवाइजरी जारी की थी। सेना ने अपने सभी कर्मियों को अपने वाट्सएप की सेटिंग बदलने के लिए कहा था।

भारत और चीन की सीमा पर बढ़ते तनाव के बीच लद्दाख पहुंचे आर्मी चीफ

ऐसा करने से कोई भी पाकिस्तानी जासूस अपने आपको जोड़ नहीं पाएगा। सेना ने विशेष सावधानी बरतने के आदेश जारी करते हुए कहा था कि अधिकारी-जवान अपनी निजता और गोपनीयता उजागर करने से बचें। वे ऐसे किसी भी व्हाट्सएप ग्रुप का हिस्सा न बनें, जो उनकी विश्वसनीयता खतरे में डाल रहा हो। इससे सैन्य बलों की गोपनीयता लीक होने का खतरा बना रहता है।

दरअसल, भारतीय सेना (Indian Army) के एक जवान का व्हाट्सएप नंबर पाकिस्तान से संबंधित किसी व्हाट्सएप ग्रुप में जोड़ा गया था। हालांकि इसमें जवान की कहीं कोई सहमति नहीं थी। उसके बाद सेना ने व्हाट्सएप की सेटिंग बदलने की हिदायत दी थी। पिछले साल जुलाई में आईबी (IB) ने भी भारतीय सेना अधिकारियों और उनके परिवार को किसी भी संदिग्ध व्हाट्सएप ग्रुप से सतर्क रहने की हिदायत दी थी।

यह भी पढ़ें