CRPF की नई पहल, ‘योग ऐट होम’ साबित होगा कारगर

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) ने डिजिटल माध्यम से योग को बढ़ावा देने की पहल की। इस कोरोना काल में योग पर प्रधानमंत्री के संदेश को आगे बढ़ाने के लिए सीआरपीएफ (CRPF) की ओर से योग पर वेबिनार आयोजित किया गया।

CRPF

योग पर वेबिनार में सीआरपीएफ के महानिदेशक डॉ. एपी माहेश्वरी।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) ने डिजिटल माध्यम से योग को बढ़ावा देने की पहल की है। इस कोरोना काल में योग पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के संदेश को आगे बढ़ाने के लिए सीआरपीएफ (CRPF) की ओर से योग पर वेबिनार आयोजित किया गया। इसमें सीआरपीएफ के अधिकारियों समेत देश भर के करीब 1.5 लाख फोर्स कर्मियों और उनके परिवार के सदस्यों ने फेसबुक, यूट्यूब और BISAG जैसे डिजिटल प्लेटफार्म्स के माध्यम से योग देखा और इसका अभ्यास किया।

इस अवसर पर सीआरपीएफ (CRPF) के महानिदेशक डॉ. एपी माहेश्वरी ने सभी से आयुष मंत्रालय के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए ‘योग ऐट होम’ और ‘योग विद फैमिली’ का आग्रह किया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि बेंगलुरु स्थित स्वामी विवेकानंद योग अनुसंधान संस्थान के कुलपति और प्रसिद्ध योग गुरु पद्मश्री डॉ. एचआर नागेंद्र रहे।

6 महीने पहले ही हुई थी शादी, नई-नवेली दुल्हन को जिंदगी भर के लिए तन्हा कर गए शहीद दीपक

इस मौके पर डॉ. एपी माहेश्वरी ने कहा कि योग हमारी प्राचीन परंपरा का अमूल्य उपहार है, जो हमारी जीवन शैली पर व्यापक प्रभाव डालता। वहीं, योग गुरु डॉ. नागेंद्र ने योग की तनाव-उन्मूलन क्षमताओं पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि योग केवल शारीरिक व्यायाम, प्राणायाम और ध्यान तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह जीवन जीने की एक कला है।

देश की आंतरिक सुरक्षा की चुनौतियों से निपटने में सीआरपीएफ (CRPF) की भूमिका की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि जवानों को मुश्किल परिस्थितियों में काम करना पड़ता है। उनके लिए हमेशा ही तनाव की स्थिति रहती है। इसलिए उन्हें योग का अभ्यास करके खुद को तनाव से दूर रखना बेहद जरूरी है। इस अवसर पर एस-वीवाईएएसए द्वारा विकसित योग मॉड्यूल साइक्लिक मेडिटेशन टेक्नीक का प्रदर्शन किया गया।

यह भी पढ़ें