कोरोना का इलाज कर रहे CRPF का डॉक्टर भी संक्रमित, डीजी सहित कई अधिकारी क्वारंटाइन

सीआरपीएफ प्रमुख एपी माहेश्वरी ने खुद को क्वारंटाइन करके एक अच्छा उदाहरण पेश किया है। अगले कुछ दिनों तक वो घर से रहकर कोरोना (Coronavirus) के खिलाफ लड़ाई में अपनी टीम का संचालन करते रहेंगे।

Coronavirus

भारत में तेजी से पैर पसार रहे कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। पिछले 5 दिनों के दौरान देश में संक्रमितों की संख्या में तीन गुना इजाफा हुआ है। आलम ये ही कि इस महामारी से लड़ रहे राष्ट्र के कोरोना योद्धा भी अब इससे अछूते नहीं रहे। देश के हर मुश्किल घड़ी में सदैव पहली पंक्ति में खड़े होकर इन संकटों का डटकर सामने करने वाला केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) के अधिकारी भी कोविड-19 (Coronavirus) के वायरस से संक्रमित पाया गया है। संक्रमित अधिकारी सीआरपीएफ अस्पताल के चीफ मेडिकल ऑफिसर के पद पर तैनात है और साकेत मेस में रह रहे हैं। संक्रमित डॉक्टर को कुछ दिनों से सांस लेने में तकलीफ, सूखी खांसी और बुखार के लक्षण दिखाई दिये, जिसके बाद उनके सैंपल को जांच के लिए भेजा गया था जो कि अब पॉजिटिव आया है। 

Coronavirus

सीआरपीएफ (CRPF) का ये अधिकारी बतौर डॉक्टर अपने संस्थान के अस्पताल में कोरोना (Coronavirus) संक्रमित मरीजों का इलाज करते-करते खुद इस वायरस की चपेट में आ गया है। इस जानकारी के मिलते ही अप्रत्यक्ष रूप से डॉक्टर के संपर्क में आने के कारण सीआरपीएफ के प्रमुख एपी माहेश्वरी भी खुद को सेल्फ क्वारंटाइन कर लिया है। साथ ही संक्रमित डॉक्टर के डायरेक्ट कॉन्टेक्ट में आए हुए सभी अधिकारी और जवानों को भी क्वारंटाइन कर लिया गया है।

जमातियों की बदसलूकी जारी: मेडिकल स्टॉफ को दी गालियां, खाने में बिरयानी की मांग

हालांकि इन सब के बीच अच्छी बात ये है कि सीआरपीएफ (CRPF) के संक्रमित डॉक्टर के अलावा और किसी भी जवानों-अधिकारियों में कोरोना के प्रारंभिक लक्षण अभी तक नहीं दिखाई दिया है। ऐसे में सीआरपीएफ प्रमुख एपी माहेश्वरी ने खुद को क्वारंटाइन करके एक अच्छा उदाहरण पेश किया है। अगले कुछ दिनों तक वो घर से रहकर कोरोना (Coronavirus) के खिलाफ लड़ाई में अपनी टीम का संचालन करते रहेंगे।

सीआरपीएफ (CRPF) के अधिकारी के अनुसार देश के सबसे बड़े अर्धसैनिक बल के प्रमुख दिशानिर्देश के तहत क्वारंटाइन में हैं लेकिन कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के खिलाफ लड़ाई सहित विभिन्न परिचालन मामले में अपने अधिकारियों के लगातार संपर्क में हैं।

यह भी पढ़ें